वर्षों से निर्माणाधीन घोरघट पुल श्री कृष्ण सेतु अब जनता को समर्पित होने जा रहा है। आज सीएम नीतीश कुमार मुंगेर जिले में इन डी परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे। श्री कृष्ण सेतु मुंगेर जिले और खगड़िया के बीच 3 किलोमीटर से अधिक लंबा रेल सह सड़क पुल है। दोनों पुल पूरी तरह बनकर तैयार है। श्रीकृष्ण सेतु चालू होने के बाद मुंगेर से सीधा उत्तर बिहार, कोसी और सीमांचल के जिले जुड़े जाएंगे। घोरघट पुल शुरू होने से पटना मु्ंगेर के रास्ते भागलपुर से जुड़ जाएगा।

वर्षों बाद शुरू होगा मुंगेर गंगा पुल

बता दें कि मुंगेर रेल सह सड़क पुल का शिलान्यास 26 दिसंबर 2002 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी ने किया था।  रेल पुल का उद्घाटन 2016 में कर दिया गया था लेकिन सड़क पुल का निर्माण एवं एप्रोच रोड के निर्माण नहीं होने के कारण अभी तक सड़क पुल चालू नहीं हुआ था। हालांकि इसके उद्घाटन की तिथियां दो बार टल चुकी थी। पहले अटल बिहारी वाजपेई की जयंती 25 दिसंबर पर इसका उद्घाटन होना था जो टल गया। फिर श्री कृष्ण सिंह की जयंती पर 31 जनवरी को उद्घाटन होना था वह भी टल गया। आखिर में अब 11 फरवरी को इसका उद्घाटन होने जा रहा है। पुल की लंबाई 3.692 किमी है।

14 वर्षों बाद शुरू होगा घोरघट पुल

2007 में घोरघट स्थित पुराने पुल के क्षतिग्रस्त होने के बाद बड़े वाहनों का परिचालन बंद कर दिया गया। 2009 में 11 करोड़ की लागत से पुल निर्माण का टेंडर निकाला गया, पुल निर्माण का कार्य 2011 में शुरू हुआ। भागलपुर की तरफ एक पाया टेढ़ा हो जाने, जमीन अधिग्रहण में कठिनाई तथा पुल निर्माण की लागत बढऩे के कारण कंपनी ने काम छोड़ दिया। 2020 में पुल निर्माण निगम को मिला काम। बिहार राज्य पुल निर्माण निगम को घोरघट पुल बनाने का काम दिया गया। निगम ने 2022 के जनवरी माह में पुल का निर्माण पूरा कर लिया गया।