Patna: अपने पूर्व छात्र व UPSC टॉपर शुभम कुमार और 2019 बैच के IAS कुमार विवेक निशांत का स्वागत विद्या विहार आवासीय विद्यालय परोरा में को हुआ। इस दौरान दोनों ने स्कूल से जुड़ी कई यादें व अपनी सफलता की कहानी अपने जूनियर्स को सुनाई 2020 के UPSC टॉपर शुभम कुमार ने कहा कि इस रिजल्ट ने पूरी लाइफ चेंज कर दी। मुझे अब भी विश्वास नही हो रहा है कि मैं UPSC टॉप कर गया हूँ। के0 एन0 बसुदेवन सर जिंदा होते तो बहुत प्राउड फील करते। मैं यहाँ के शिक्षकों से बहुत कुछ सीखा। चार हाउस मास्टर और सोनाली मैम को धन्यवाद देता हूं। विद्या विहार शिक्षकों से बना है।

दिल्ली में तैयारी के दौरान वीवीआरएस की पढ़ाई का तरीका आया काम

शुभम ने आगे बताया कि जब दिल्ली में तैयारी कर रहा था तो वहां भी मेरे रूममेट निशांत थे। तब हम लोग ने नोटिस किया कि सवालों का जवाब बेहतर तरीके से कैसे दे रहे हैं। तब हमें याद आया कि विद्या विहार में इन सभी चीजों की प्रैक्टिस कर चुके हैं। पॉइंट पढ़ाई करने का परिणाम आया है हम लोग यहां। यहां के शिक्षकों का शैक्षणिक गतिविधि के साथ मोरल एजुकेशन पर बहुत फोकस रहा था। यहां पर संस्कार मिला क्लास 6 से 10 तक संस्कार मिला वह आगे काम आया।

मेरी जर्नी का मैं खुद गवाह हूं, हमेशा खुद में कंपटीशन रखा

शुभम ने स्कूल के दिनों का याद करते हुए कहा कि क्लास सिक्स्थ में मेरे रैंक 35-40 के बीच रहती थी। उस समय निशांत टॉपर हुए। कक्षा 7 ए में कुछ प्रॉब्लम हुई मैं पढ़ाई अच्छे तरीके से नहीं कर पाया। इसके बाद 8 वी मैं गया इसके बाद में 8 ए में गया। एक दोस्त ने कहा शुभम काफी लक्की हो 8 वी से 8 ए मैं आ गए यह बात मुझे क्यों गई इसके बाद मैंने छोटी-छोटी प्लानिंग करना शुरू कर दिया। इसके बाद 33 रैंक आया इसके बाद मैंने सोचा कि मुझे खुद से बेहतर करना है। अपने से कंपटीशन रखना है, इसके बाद मेरी रैंकिंग सुधारने लगी।

मेरी जर्नी का मैं खुद गवाह हूं

बचपन से मैं जिद्दी रहा। मैं एक बार ठान लिया तो फिर करता था मैंने अपने पापा मम्मी से सीखा है कि पहले आप अच्छे इंसान बनो मुझे फैमिली सपोर्ट काफी मिला।

Source: BeforePrint