अब पटना एम्स से अनीसाबाद होकर कच्ची दरगाह तक एलिवेटेड रोड बनेगा। इससे सूबे के किसी हिस्से से पटना आने के लिए कच्ची दरगाह से एम्स तक न्यू बाइपास रोड के जाम से निजात मिलेगी। यानी लोग शहर में ऊपर ही ऊपर एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक आसानी से पहुंच सकेंगे। पथ निर्माण मंत्री ने इस नेशनल हाईवे पर एलिवेटेड रोड बनवाने का प्रस्ताव केंद्र सरकार के पास भेजा है। 

इसके मुताबिक, पटना एम्स से पटना न्यू बाइपास टोल प्लाजा तक एलिवेटेड रोड बनेगा। यानी इसकी लंबाई 18 किलोमीटर होगी। इसके निर्माण पर कुल 1800 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। पटना एम्स से अनीसाबाद मोड़ तक सात किलोमीटर लंबे एलिवेटेड रोड बनाने का प्रस्ताव नेशनल हाईवे के एनुअल प्लान में शामिल कर लिया गया है। 

अनीसाबाद से कच्ची दरगाह तक एलिवेटेड रोड का प्रस्ताव भेजा गया

दरअसल, अब अनीसाबाद से कच्ची दरगाह तक 11 किलोमीटर एलिवेटेड रोड बनाने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने 31 मई को दिल्ली में केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मिलकर अनीसाबाद से कच्ची दरगाह के बीच न्यू बाइपास रोड पर हैवी ट्रैफिक को देखकर एलिवेटेड रोड बनवाने का प्रस्ताव दिया था। महज सात दिन बाद सात जून को बिहार दौरे पर नितिन गडकरी ने हाजीपुर की सभा में मंच से इस प्रस्ताव पर हामी जताते हुए डबल डेकर एलिवेटेड रोड बनाने तक की बात की थी। इस पर राज्य सरकार से प्रस्ताव भी मांगा था। 

एलिवेटेड रोड के नीचे भी चल सकेंगे लोग

केंद्रीय मंत्री की घोषणा के 10 दिनों में ही सूबे के पथ निर्माण विभाग मंत्री नितिन नवीन ने दक्षिण पटना की बड़ी आबादी को हैवी ट्रैफिक से निजात दिलाने के लिए एलिवेटेड रोड बनाने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है। केंद्र सरकार से औपचारिक मंजूरी मिलने के बाद 18 किलोमीटर लंबी थ्री लेयर इस परियोजना में नीचे की सड़क पर लोग चल सकेंगे। चार लेन फर्स्ट लेयर पर आने का मार्ग रहेगा, वहीं चार लेन सेकंड लेयर पर जाने की व्यवस्था होगी।