मणिपुर विधानसभा चुनाव की 60 सीटों में लगभग आधी पर बीजेपी का प्रभाव दिखा. वहीं, कांग्रेस को कुल 5 सीटों पर जीत मिली है. जबकि, मणिपुर विधानसभा में जदयू का भी खाता खुल गया है. सबसे बड़ी बात यह है कि जदयू को मणिपुर में कांग्रेस से ज्यादा सीटें मिली है. इन सभी सीटों पर जदयू के प्रत्याशियों ने भाजपा के उम्मीदवारों को हराकर जीत हासिल की है.

जदयू के सभी छह उम्मीदवारों ने बीजेपी के प्रत्याशियों को हराया

चुनाव आयोग की ओर से जारी किए आंकड़ों पर गौर करे तो जदयू के सभी छह उम्मीदवारों ने बीजेपी के प्रत्याशियों को पराजित कर जीत हासिल की है. आंकड़ों पर गौर करे तो जदयू और बीजेपी के प्रत्याशियों के बीच मतों का अंतर बहुत कम रहा है. जदयू और बीजेपी के प्रत्याशियों के बीच चार सीटों पर मतों का अंतर आठ सौ से भी कम रहा है. वहीं, अन्य दो सीटों पर दोनों दलों के बीच मतों का अंतर 1249 और 3773 रहा है.

जदयू के विजयी उम्मीदवारों की सूची

– चुराचांदपुर सीट से जदयू के एलएम खौटे ने बीजेपी के उम्मीदवार वी हांग्खानलियानी को 624 वोटों से हराया.

– जिरिबाम सीट से जदयू के मो. आचाब उद्दिन ने बीजेपी के उम्मीदवार नेमकिरप्पम बुद्धचंद्र सिंह को 416 मतों से हराया.

– लिलोंग सीट से जदयू के मोहम्मद अब्दुल नसीरो ने बीजेपी के उम्मीदवार वाई अंतस खान को 570 मतों से हराया.

– थंगमीबंद सीट से जदयू के खुमुच्छम जोयकिसन सिंह ने बीजेपी के उम्मीदवार जोतिन वाइखोम को 3773 मतों से हराया.

– तिपैमुख सीट से जदयू के नगुरसंगलूर सनाटे बीजेपी के चल्टन लियन अमो को 1249 मतों से हराया.

– वांगखेई सीट से जदयू के थंगजाम अरुण कुमार ने बीजेपी के ओकराम हेनरी को 753 मतों से पराजित किया.

बिहार में बीजेपी के साथ सत्ता संभाल रही जदयू

बता दें कि बिहार में बीजेपी के साथ जदयू सत्ता संभाल रही है. बावजूद इसके जदयू ने मणिपुर में अलग चुनाव लड़ने का फैसला लिया था. इससे पहले भी जदयू गुजरात में अलग चुनाव लड़ चुकी है. इन सबके बीच, मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी ने दबदबा कायम रखा हुआ है. वहीं, कांग्रेस को अब तक का सबसे खराब दौर का सामना करना पड़ रहा है. मणिपुर में कांग्रेस का बेहद खराब प्रदर्शन रहा और उसे महज पांच सीटों मिल रही है. कांग्रेस ने पिछले चुनाव में 28 सीटें हासिल की थीं और उसे इस बार 23 सीटों पर नुकसान उठाना पड़ रहा है.