बिहार के भागलपुर स्थित भारतीय सूचना प्रोद्योगिकी संस्थान (ट्रिपल आइटी) के सात छात्रों का चयन अमेजन कंपनी ने 45 लाख रुपये सालाना पैकेज पर किया है। ये छात्रों (सत्र : 2019-23) के हैं। इसमें तीन छात्रों कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग (सीएसई) और चार विद्यार्थी इलेक्ट्रनिक्स एंड कंप्यूटर इंजीनियरिंग (इसीई) के हैं। चुने गए छात्रों में सीएसई फैकल्टी के बाढ़ निवासी हर्ष कृष्णा, वाराणसी के अभिषेक मौर्या और पुनित सिंह शामिल हैं। जबकि इसीई के चंदौली निवासी अश्विनी सिंह, नोएडा के रत्नेश गुप्ता, हैदराबाद के प्रवीण सारश्वत और कैमूर के धीरज कुमार सिंह शामिल हैं।

इंटर्नशिप के दौरान छात्रों को 9.60 लाख का पैकेज

ट्रिपल आइटी के पीआरओ डा. धीरज कुमार सिन्हा ने बताया कि कंपनी ने चुने गए छात्रों को 2023 से कंपनी में इंटर्नशिप का मौका दिया है। जून में सातों छात्रों कंपनी के पूर्णकालिक कर्मचारी के रूप में काम करेंगे। इंटर्नशिप के दौरान छात्रों को 9.60 लाख का पैकेज कंपनी देगी। कंपनी द्वारा तीन राउंड की जांच परीक्षा के बाद चयन किया गय है। इसमें तकनीकी जांच में 60 विद्यार्थी शामिल हुए। इसमें 15 छात्रों तकीनीकी इंटरव्यू के लिए चुने गए। अंत में केवल सात छात्रों को ही एचआर इंटरव्यू के बाद अमेजन ने चुना।

चयनित छात्रों को बधाई और शुभकामनाएं

ट्रिपल आइटी के निदेशक प्रो. अरविंद चौबे ने चयनित छात्रों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने बताया कि संस्थान के विद्यार्थी बेहतर प्लेसमेंट के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इसके साथ संस्थान भी छात्रों को प्लेसमेंट के लिए विशेषज्ञों द्वारा तकनीकी परीक्षण और साक्षात्कार की तैयारी के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। पहले दो बैच शत प्रतिशत प्लेसमेंट के साथ संस्थान से बीटेक कर चुके हैं।

संस्थान के ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट सेल के फैकल्टी इंचार्ज डा. गौरव कुमार ने बताया कि दिसंबर 2022 तक (सत्र : 2019-23) के सभी विद्यार्थियों को प्लेसमेंट कराने का लक्ष्य है। इस सत्र के विद्यार्थी कड़ी मेहनत कर रहे हैं। डा. गौरव ने बताया कि संस्थान में लगातार प्लेसमेंट ड्राइव चल रहे हैं, बेहतर पैकेज पर विद्यार्थियों का चयन हो, इसके लिए प्रयास हो रहे हैं। पीआरओ डा. धीरज ने बताया कि संस्थान प्लेसमेंट के साथ रिसर्च और एकेडमिक के विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके लिए उन्हें उच्च गुणवत्ता की तैयारी कराई जा रही है। जिससे कंपनियों को उनके अनुरूप विद्यार्थी मिले।