राज्य में सोन नदी पर अरवल और भोजपुर के सहार के बीच करीब तीन किलोमीटर लंबा एक फोरलेन पुल बनेगा. यह पुल पटना-आरा-सासाराम फोरलेन ग्रीन फील्ड एनएच-119ए का हिस्सा होगा. इस सड़क की लंबाई करीब 118 किमी हाेगी और इसके निर्माण की अनुमानित लागत करीब 3500 करोड़ रुपये होगी.

इस सड़क और पुल की डीपीआर बन रही है. उस पर केंद्र सरकार की मंजूरी मिलते ही निर्माण की प्रक्रिया इस साल शुरू होने की संभावना है. इसके जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है. इस पूरी परियोजना को 2025 तक पूरा होने की संभावना है. इस सड़क और पुल के बनने से पटना से भोजपुर, अरवल, रोहतास, सासाराम होकर वाराणसी तक आने-जाने में समय की करीब आधी बचत होगी.

पटना से वाराणसी जाने में समय की करीब आधी बचत होगी

सूत्रों का कहना है कि पटना-आरा-सासाराम फोरलेन सड़क के बन जाने से आरा शहर को जाम से राहत मिल जायेगी. यह आरा शहर के बाहर से गुजरेगी. इससे जिले के दक्षिणी हिस्से की ओर से पटना जाने के लिए वाहन बिना आरा शहर से गुजरे ही पटना की ओर चले जायेंगे. साथ ही सासाराम से पटना पहुंचने में दूरी और समय की बचत होगी. फिलहाल पटना से सासाराम पहुंचने में करीब पांच से छह घंटे लगते हैं. पुल और सड़क को बनने से यात्रा का यह समय घट कर करीब ढाई से तीन घंटे रह जायेगी.

यहां से होकर गुजरेगी सड़क

पटना जिले में यह सड़क सदिसोपुर-नौबतपुर के बीच से शुरू होगी. इसके बाद यह अरवल होते हुए सोन नदी पार कर भोजपुर के सहार में पहुंचेगी. सहार से यह सड़क बागड़-गड़हनी मौजूदा सड़क से गुजरेगी. इसके बाद यह पीरो, हसन बाजार, विक्रमगंज, नोखा, संझौली होते हुए सासाराम से आगे सुअरा में जाकर एनएच दो यानी वाराणसी जाने वाली सड़क से जुड़ेगी.

क्या होगा फायदा

पटना से भोजपुर, अरवल, रोहतास, सासाराम होकर वाराणसी तक आने-जाने में समय की करीब आधी बचत होगी.

शहर के बाहर से इस सड़क के गुजरने से आरा शहर को जाम से राहत मिल जायेगी