पटना: बिहार विधान परिषद (Bihar MLC Election 2022) की 24 सीटों पर हुए चुनाव में एनडीए गठबंधन का पलड़ा भारी है। ज्यादातर सीटों पर एनडीए गठबंधन को जीत (Bihar MLC Election Result) मिली है। हालांकि अभी भी एमएलसी चुनाव (MlC Election in Bihar ) की मतगणना जारी है। वहीं, एमएलसी चुनाव को लेकर राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने शासन और प्रशासन पर उनके प्रत्याशियों को हराने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि चुनाव में उनकी पार्टी ने 60 प्रतिशत की जीत हासिल की है। कई जगहों पर उनके प्रत्याशियों को जबरदस्ती हराया गया है। उनकी पार्टी मतगणना के बाद सभी बिंदुओं पर चर्चा करेगी।

प्रत्याशियों को जबरदस्ती हराया गया:

प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव (RJD spokesperson Shakti Singh Yadav) ने कहा कि 23 सीटों पर उनकी पार्टी एमएलसी का चुनाव लड़ी है। उनकी पार्टी ने चुनाव में 60 प्रतिशत की जीत हासिल की है। उन्हें सूचना मिल रही है कि कई जगहों पर उनके प्रत्याशियों को जबरदस्ती हराया गया। शासन और प्रशासन के द्वारा उनकी बात नहीं सुनी जा रही है। गोपालगंज में उनके प्रत्याशी को 17 वोट से हराया गया। उनकी पार्टी ने पुनर्मतगणना की बात कही, लेकिन प्रशासन के द्वारा उनकी मांगों को नहीं सुना गया। मतगणना के बाद उनकी पार्टी इन सभी बिंदुओं पर मंथन करेगी।

जनता ने नीतीश कुमार के खिलाफ मतदान किया:

उन्होंने कहा कि इस चुनाव में राज्य की जनता ने नीतीश कुमार के खिलाफ मतदान किया है। नीतीश कुमार थके हुए सीएम हो गए हैं। जिन्हें बिहार की जनता स्वीकार नहीं कर रही है। जहां उनकी हार हुई है, उसकी पड़ताल की जाएगी। तमाम बिंदुओं पर जांच की जाएगी कि आखिर कहां कमी रही और कहां शिथिलता बरती गई। वहीं, प्रत्याशियों के चयन पर शक्ति सिंह यादव ने कहा कि सभी पार्टियों पर इस तरह के आरोप लगते हैं, लेकिन उनके नेता तेजस्वी यादव ने एक लकीर खींची है। वे मजबूत विपक्ष है और उनका विश्वास सबको साथ लेकर चलने में है। पार्टी में भीतरघात बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।