अडानी ग्रुप (Adani group) और वॉलमार्ट इंक की फ्लिपकार्ट (Flipkart) यूनिट वेयरहाउसिंग और डेटा सेंटर से परे अपनी साझेदारी को नए डोमेन में विस्तारित करने के लिए बातचीत कर रही है। इसमें थोक ई-कॉमर्स और किराने का सामान और घरेलू सामान की सोर्सिंग शामिल है। “अडानी एक रणनीतिक साझेदारी के लिए वॉलमार्ट के साथ एक नया समझौता कर सकता है, जिसके तहत फ्लिपकार्ट प्रोडक्ट्स की एक चेन बेच सकता है। इससे मिलने वाले रेवेन्यू को दोनों कंपनियां आपस में शेयरिंग कर सकते हैं। इसके लिए एक साझाकरण समझौता होगा। इस समझौते के तहत अडानी और वॉलमार्ट दोनों आनुपातिक आधार पर आय प्राप्त करेगा। 

अडानी और फ्लिपकार्ट दोनों को फायदा

सूत्रों के मुताबिक,  इस साझेदारी के तहत जहां एक तरफ फ्लिपकार्ट के पास प्रोडक्ट्स की विस्तृत चेन तैयार होगा, जिसे वह रिटेल विक्रेताओं को बेच सकेगा। वहीं, दूसरी तरफ बल्कि कंपनी से नए थोक ग्राहक भी जुड़ेंगे, जो पैकेज्ड गुड्स और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स व्यवसायों में अडानी ग्रुप की कंपनियों से जुड़े हैं। सूत्रों के मुताबिक, अडानी और फ्लिपकार्ट दोनों संयुक्त रूप से प्रस्तावित समझौते के अनुसार दुकानों और व्यापार मालिकों को थोक आधार पर माल की बिक्री का प्रबंधन करेंगे। बता दें कि यह साझेदारी ई-कॉमर्स क्षेत्र में अपनी उपस्थिति बढ़ाने के लिए अडानी की रणनीति का एक हिस्सा है। 

वॉलमार्ट का भारत में फ्लिपकार्ट के जरिए कारोबार

वॉलमार्ट भारत में फ्लिपकार्ट ग्रुप की बिजनेस-टू-बिजनेस आर्म फ्लिपकार्ट होलसेल के जरिए अपना ऑनलाइन होलसेल बिजनेस करती है। फ्लिपकार्ट होलसेल का वित्त वर्ष 2011 का राजस्व पिछले वर्ष से 25% बढ़कर 42,941 करोड़ हो गया और घाटा 22% घटकर 42,445 करोड़ हो गया। फ्लिपकार्ट का  थोक कारोबार  भारत भर में 1.5 मिलियन से अधिक ग्राहकों को पूरा करता है, जिसमें किराना, होटल, रेस्तरां, कैफेटेरिया, कार्यालय और संस्थान शामिल हैं। बता दें कि 18 जनवरी को, फ्लिपकार्ट ने घोषणा की कि वह लागत कम करने और निवेश बढ़ाने के लिए अपने व्यवसाय संचालन को पुनर्गठित करेगा। 

क्या है योजना?

सूत्रों के मुताबिक, “इस साझेदारी के तहत अडानी ग्रुप उन स्थानों पर एफएमसीजी उत्पादों के लिए नए बड़े भंडारण और वितरण सुविधाएं प्रदान कर सकता है जहां फ्लिपकार्ट को अभी तक बाजार हिस्सेदारी हासिल नहीं हुई है। इससे फ्लिपकार्ट को थोक क्षेत्र में बड़ी संख्या में नए ग्राहक हासिल करने में मदद मिल सकती है। दूसरी ओर, अडानी को एक सक्रिय ई-कॉमर्स व्यवसाय मिलेगा और नई साझेदारी की योजना के अनुसार फ्लिपकार्ट पर थोक व्यापार से उत्पन्न राजस्व से लाभ होगा। अगर यह साझेदारी होती है तो फ्लिपकार्ट और अडानी की कंपनी मिलकर अमेज़ॅन और JioMart जैसे प्रतिद्वंद्वी थोक विक्रेताओं को कड़ी टक्कर देगी। बता दें कि  फ्लिपकार्ट होलसेल के देश में 28 बेस्ट प्राइस स्टोर हैं।