हैदराबाद (तेलंगाना) : अगस्त्य जायसवाल भारत में दो संकायों, बीआईपीसी (जीव विज्ञान, भौतिकी, रसायन विज्ञान) और सीईसी (नागरिक विज्ञान, अर्थशास्त्र) में इंटरमीडिएट (12 वीं कक्षा) पूरा करने वाले पहले छात्र बन गए हैं। एक विज्ञप्ति के अनुसार, मंगलवार को तेलंगाना इंटरमीडिएट के परिणाम घोषित होने के बाद, अगस्त्य जायसवाल ने श्री चंद्र कॉलेज से 81 प्रतिशत के साथ बीपीसी में इंटरमीडिएट द्वितीय वर्ष की परीक्षा उत्तीर्ण की। इससे पहले जब वह 11 साल के थे, तब अगस्त्य तेलंगाना में एक निजी कॉलेज से सीईसी में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करने वाले पहले छात्र बने थे।

2020 में, महज 14 साल की उम्र में, अगस्त्य जायसवाल बीए मास-कम्युनिकेशन और जर्नलिज्म में ग्रेजुएशन पूरा करने वाले भारत के सबसे कम उम्र के पहले छात्र बने थे। साथ ही, सिर्फ 9 साल की उम्र में, अगस्त्य एसएससी पास करने वाले तेलंगाना के पहले छात्र थे। इस उपलब्धि पर अगस्त्य ने कहा कि मेरे माता-पिता मेरे शिक्षक हैं, अपने माता-पिता के समर्थन और प्रशिक्षण से, मैं चुनौतियों पर काबू पा रहा हूं। मैं यह साबित करना चाहता हूं कि कुछ भी असंभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि बीपीसी और सीईसी दो धाराओं में इंटरमीडिएट पूरा करने के पीछे उनका इरादा सिर्फ ज्ञान हासिल करना था। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए तेलंगाना सरकार को धन्यवाद दिया। विज्ञप्ति में कहा गया है कि अगस्त्य जायसवाल केवल 1.72 सेकेंड में ए से जेड अक्षर टाइप कर सकते हैं; वह दोनों हाथों से लिख सकते हैं। अगस्त्य राष्ट्रीय स्तर के टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। वह एक इंटरनेशनल मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं।

अगस्त्य जायसवाल अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस खिलाड़ी और सबसे कम उम्र की रिसर्च स्कॉलर नैना जायसवाल के छोटे भाई हैं। अगस्त्य के पिता अश्विन जायसवाल ने बताया कि उन्होंने अपने बेटे की पढ़ाई और खेल में रुचि देखी और उसे प्रोत्साहित किया। हमें अपने बच्चे को जिस भी क्षेत्र में दिलचस्पी है उसका समर्थन करना होगा। मैंने देखा कि उसे पढ़ाई के साथ-साथ खेल में भी दिलचस्पी थी इसलिए मैंने उसे प्रोत्साहित किया।