पटना: बिहार कैबिनेट (Bihar Cabinet) की बैठक में मंगलवार को हंगामे और इस्तीफे के सवाल पर कृषि मंत्री सुधाकर सिंह (Agriculture Minister Sudhakar Singh) ने बुधवार को जवाब दिया. सुधाकर सिंह ने कहा कि कौन कहता है कि मैं इस्तीफा दे रहा हूं? मैं लालू यादव (Lalu Yadav) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के आदेश पर मंत्री बना हूं. वह जब कहेंगे तभी मैं कुछ करूंगा. मेरी दो मांग है. बिहार में मंडी कानून बने और धान-चावल खरीद में जो गड़बड़ी है उसे दुरुस्त किया जाए.

सुधाकर सिंह ने कहा कि वह नाराज नहीं हैं. जब कैबिनेट की बैठक खत्म हो गई थी तब ही वो निकले थे. इस्तीफे की बात कहां से उठी उन्हें नहीं पता. उनकी जानकारी में इसको लेकर कुछ भी नहीं है. सुधाकर सिंह ने कहा- “कल कोई बात नहीं थी. मेरे विभाग के डीजल अनुदान का एक छोटा सा सवाल था कि डीजल अनुदान जाना चाहिए, जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि और ज्यादा पैसे इस काम के लिए ले जाएं. इस पर मैंने यही कहा कि जरूरत होगी तो ले जाएंगे.”

‘गड़बड़ी सुधारेंगे और विभाग भी चलाएंगे’

सुधाकर सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से कोई मेरी बात नहीं हुई है. मुख्यमंत्री हैं हमारे तो उनसे किस बात का झगड़ा होगा. मुख्यमंत्री बिहार को आगे ले जाना चाहते हैं और मैं भी विकास को आगे ले जाना चाहता हूं. हम गड़बड़ी को भी सुधारेंगे और कृषि विभाग को भी चलाएंगे. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने मुझे काम पर रखा है उनकी इच्छा से मंत्री पद पर हैं. उन्होंने कहा कि व्यवस्था सुधारी जानी चाहिए यह मेरी मांग है. किसानों की सभा में उठाए गए सवाल का मैंने सिर्फ उत्तर दिया है.

किस बात पर हुई इस्तीफे की चर्चा?

मंगलवार को कैबिनेट की बैठक हुई थी. सूत्रों के अनुसार, इसमें सीएम नीतीश कुमार ने कृषि मंत्री से उनके द्वारा हाल ही में कैमूर में दिए गए बयान को लेकर कहा कि इस तरह का बयान देना ठीक नहीं है. सीएम नीतीश कुमार के इतना कहते ही कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने पलट कर कहा कि क्या गलत है, ऐसा है तो मैं इस्तीफा दे देता हूं. इसी को लेकर आज सुधाकर सिंह से सवाल किया गया था जिसपर उन्होंने उक्त बातें कहीं.