गया: बिहार के गया जिले में आयोजित भाकपा माले के तीन दिवसीय सम्मेलन में शुक्रवार को पहुंचे दीपांकर भट्टाचार्य (Dipankar Bhattacharya) ने बड़ा दावा किया है। सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ” यूपी चुनाव के बाद संकेत साफ है कि बिहार में बीजेपी अब ज्यादा समय तक नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को सीएम के रूप में ढोने के मूड में नहीं है। बीजेपी की पूरी कोशिश है कि बिहार में बीजेपी की अपनी सरकार रहे, अपना सीएम हो। इसलिए यह खतरा है, जैसे यूपी में ‘बुलडोजर बाबा’ हैं, वैसे ही बिहार में भी बुलडोजर की सरकार हो।”

मुकेश सहनी का इस्तेमाल किया

माले नेता ने कहा, ” चुनाव में बीजेपी (BJP) ने मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) का इस्तेमाल किया। बीजेपी तो यही खेल खेलने वाली पार्टी है। अब यह खेल नीतीश कुमार के साथ होगा। सत्ता हड़पने की बीजेपी की यह साजिश है।” उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) व योगी (Yogi Adityanath) को बुलडोजर बताते हुए कहा कि यूपी से ज्यादा बिहार को इनसे लड़ना है। यूपी के बुलडोजर मॉडल को ये बिहार में थोप सकते हैं। बीजेपी की ऐसी सोच है कि अब नीतीश कुमार को ढोने की जरूरत नहीं है।”

दीपांकर ने कहा, ” यूपी चुनाव के बाद आरएसएस और बीजेपी को लगता है कि बिहार के लिए अब निर्णायक समय आ गया है। यूपी के तर्ज पर बिहार में भी बीजेपी की सरकार बने। इसका उदाहरण मुकेश सहनी हैं। यह चेतावनी नीतीश कुमार और जीतन राम मांझी के लिए है। किसान आंदोलन की ताकत ने पंजाब में सरकार बदली है. अब इस किसान आंदोलन की बिहार में जरूरत है।”

फिल्म की आड़ में पैदा कर रहे उन्माद

वहीं, बॉलीवुड फिल्म कश्मीर फाइल्स के संबंध में उन्होंने कहा कि फिल्में तो बहुत बनती रही हैं, जिसे टैक्स फ्री भी किया गया है। लेकिन इस तरह से एक फ़िल्म के लिए पीएम से लेकर पूरी बीजेपी सरकार उतर जाए, ऐसा पहले नहीं देखा था। फिल्म देखने के लिए बीजेपी के नेता लोगों को गोलबंद कर रहे हैं। फिल्म देखने के बाद सिनेमा हॉल का नजारा बदल जा रहा है। वहां भाषणबाजी हो रही है। फिल्म की आड़ में देश में उन्माद पैदा करने की कोशिश हो रही है।