यूक्रेन और रसिया के बीच युद्ध की संभावना को देखते एमबीबीएस की तैयारी कर छात्र उत्कर्ष बिहार पहुंच गया. उसके घर पर परिजनों में खुशी देखी गई. छात्र के परिजन ने बताया जब तक स्थिति वहां सामान्य ना हो जाए तबतक ऑनलाइन पढ़ाई कराया जाए. सरकार सभी छात्रों को वापस भारत देश बुलाए सभी पर विशेष सुविधा प्रदान करे.

इस संबंध में एमबीबीएस के छात्र उत्कर्ष राज ने बताया कि यूक्रेन की कैपिटल किव शहर में रहकर एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा हूं. वहां पर अभी दो देशों के बीच में युद्ध जैसी स्थिति बनी हुई है. इसी को लेकर वापस अपने देश भारत में आ गया हूं. मुझे भारतीय दूतावास से किसी भी तरह की कोई सहायता या उसके द्वारा कोई गाइडलाइन जारी नहीं की गई थी. दोनों देशों के बीच युद्ध होने की स्थिति में फ्लाइट का भी टिकट काफी ज्यादा बढ़ गया है.

उत्कर्ष राज ने बताया कि नॉर्मल दिनों में फ्लाइट का चार्ज 25 से 30 हजार के आसपास में रहता है, लेकिन युद्ध की स्थिति से फ्लाइटों का चार्ज लगभग दोगुना हो गया है. स्वयं 50 हजार तक का टिकट कराकर के वापस इंडिया आए हैं. मैं भारत सरकार से मांग करना चाहता हूं कि जो भारत सरकार के द्वारा एयर इंडिया फ्लाइट यूक्रेन में भेजकर छात्रों को मंगाया जा रहा है उसका चार्ज लगभग 60 हजार से ज्यादा है, जो कि काफी ज्यादा चार्ज होने के वजह से कई भारतीय छात्र नहीं आ पा रहे हैं.

ऐसे छात्र के परिजन काफी चिंतित है. जिसकी एक न्यूनतम चार्ज रखकर सारे भारतीय छात्रों को वापस इंडिया लाया जाए. इस संबंध में छात्र की मां सीमा सिंह ने बताया मेरा बेटा यूक्रेन से वापस लौट कर हम लोगों के बीच आ गया है. हम लोग काफी खुश हैं. परंतु उसकी पढ़ाई को लेकर चिंता है. इसके साथ ही छात्र के पिता डॉ नागेंद्र सिंह ने बताया कि मेरा पुत्र यूक्रेन में रह कर के मेडिकल का पढ़ाई करता है. दो आपसी देशों में युद्ध होने की खबर मिली तो हमने आनन-फानन में अपने पुत्र को वापस इंडिया बुला लिया. मेरा पुत्र हम लोगों के बीच आया तो हम लोगों की काफी खुशी व प्रसन्नता हुई.