बिहार सरकार ने बीपीएससी की परीक्षा को लेकर बड़ा फैसला लिया है. बीपीएससी परीक्षा पूर्व की तरह एक दिन और एक ही पाली में होगी. इससे पहले परीक्षा के पैटर्न को लेकर बदलाव की खबरें आई थी जिसके बाद छात्रों ने आंदोलन और विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा को लेकर परीक्षार्थियों की समस्या पर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी एवं बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अतुल प्रसाद के साथ बैठक की.

बैठक में बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष ने पूरी स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत कराया. बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने सभी जिलाधिकारी एवं क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ विमर्श किया है. इस संदर्भ में निर्णय लिया गया है कि बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा पूर्व की तरह एक दिन एवं एक पाली में ही ली जायेगी.

मालूम हो कि बीपीएससी 67वीं प्रारंभिक परीक्षा के पैटर्न बदले जाने और शेड्यूल जारी होते ही हर जगह विरोध और हंगामा मचा हुआ था. नए पैटर्न को वापस लेने की मांग की जा रही थी. बुधवार को इसी विरोध के दौरान अभ्यर्थियों पर हुए लाठीचार्ज के बाद खुद सीएम नीतीश कुमार ने पूरे मामले पर संज्ञान लिया था और आज मुख्य सचिव आमिर सुबहानी और आयोग के चेयरमैन के साथ सीएम खुद बैठक भी की.

दरअसल मई महीने में 67 वीं प्रारंभिक बीपीएससी परीक्षा में हुए प्रश्न पत्र लीक के बाद परीक्षा रद्द हुई थी और आयोग ने 20 और 22 सितम्बर को पुनर्परीक्षा लेने का शेड्यूल जारी कर दिया है, हालांकि इस परीक्षा में पहली बार आयोग ने नया पैटर्न इक्यू परसेंटाइल पैटर्न लागू कर दिया है जिसका लगातार विरोध हो रहा था.