पटना. बिहार में जदयू के एनडीए से अलग होने के बाद लगातार राष्ट्रीय स्तर पर नीतीश कुमार को झटका लग रहा है .अरुणाचल प्रदेश के बाद अब मणिपुर में भी जदयू के विधायकों ने नीतीश कुमार का साथ छोड़ दिया है मणिपुर में जदयू के 6 विधायकों में से पांच विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं. यह पहला मौका नहीं है जब पूर्वोत्तर के राज्यों में जदयू के विधायकों ने पार्टी का साथ छोड़ा है इसके पहले भी कई ऐसे मौके आए जिसमें जदयू के विधायकों ने नीतीश कुमार का साथ छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं जिसको लेकर जदयू के द्वारा नाराजगी भी जाहिर की गई थी.

बिहार में जेडीयू के एनडीए में रहते हुए वर्ष 2019 अरुणाचल प्रदेश में जदयू ने 7 सीटों पर चुनाव जीते थे बाद में जदयू के छह विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे. दरअसल पार्टी के अध्यक्ष ललन सिंह जदयू को राष्ट्रीय पार्टी बनाने के लिए  लगातार प्रयास कर रहे हैं. इसी कड़ी में यदि उन्हें कई राज्यों में चुनाव भी जीता बिहार से बाहर हाल के दिनों में सबसे बड़ी जीत मणिपुर में हुई थी.

मणिपुर में इन विधायकों ने छोड़ा साथ 

बता दें, मणिपुर में जेडीयू के छह विधायक चुनाव जीत कर आए थे. जिसमे चुराचांदपुर से एलएम खाओते, जिरीबम से मो. अचब उद्दीन, तिपाईमुख से नुंगरुसांगलूर सनाते, लिलोंग से मो. अब्दुल नासिर और थंगमेईबंद से खुमुकचन जॉयकिशन ने अब जदयू का साथ छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया है. एक विधायक को लिगोंग से जीत कर आए थे मोहमद अब्दुल नासिर अभी भी जेडीयू में हैं.

अरुणाचल प्रदेश में भी जदयू MLA बीजेपी में हुये थे शामिल 

जदयू के इन सभी 5 विधायकों ने मणिपुर विधानसभा को मर्जर का पत्र सौंप दिया था जिसके बाद मणिपुर विधानसभा से भी इसकी स्वीकृति दे दी गई है. बीजेपी मणिपुर के फेसबुक पेज पर जेडीयू से बीजेपी मर्ज होने का लेटर जारी किया गया. इसके पहले 25 अगस्त को ही जदयू को एक बड़ा झटका लगा था जब अरुणाचल प्रदेश में जदयू के एकमात्र विधायक तेकी कासो जो जेडीयू के सिंबल से चुनाव जीत कर आए थे वे जेडीयू छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे.