बिजली के क्षेत्र में पूरे देश में बिहार एक पहला राज्य है, जहां अब तक सबसे ज्यादा स्मार्ट मीटर लगाया जा चुका है. जबकि पटना के आशियाना फीडर में सत प्रतिशत प्रीपेड मीटर लग चुका है, जिसकी बधाई के लिए आज एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें बिहार के ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव और कंपनी के सीएमडी संजीव हंस सहित कई जिलों के बिजली अधिकारी मौजूद हुए. इस दौरान प्रीपेड मीटर लगाने में तेजी लाने वाले कर्मचारियों को सम्मानित करने की बात की गई .

पूरे देश में बिहार का पहला स्थान मिला

इस मौके पर कम्पनी के सीएमडी संजीव ने कहा कि 2019 में बिहार सरकार से बिहार में प्रीपेड मीटर लगाने का अनुमोदन हुआ था, जिसमें साढ़े 23 लाख प्रीपेड मीटर लगाने का लक्ष्य रखा गया था. जिसपर कंपनी ने काम में तेजी लाते हुए अब तक पूरे बिहार में 523000 प्रीपेड मीटर लगा चुके हैं, जो पूरे देश में बिहार का पहला स्थान है. ऊर्जा के क्षेत्र में बिहार में क्रांति लाने से हम सभी को हर्ष महसूस हो रहा है. इसमें जितने भी कंपनियां काम कर रही हैं. सभी ने मन लगाकर अपना काम कर रहे हैं.

स्मार्टफोन से शिकायत दर्ज कर सकते हैं

सीएमडी ने कहा कि प्रीपेड मीटर पर 8 वर्ष का समय रखा गया है. इस दौरान मीटर में कोई भी खराबी आती है या किसी प्रकार की समस्या होती है, तो सोशल मीडिया के जरिए टि्वटर या फेसबुक या अपने स्मार्टफोन से शिकायत दर्ज कर सकते हैं. शिकायत मिलते ही तुरंत कार्रवाई की जाएगी और मीटर को ठीक किया जाएगा. इसके अलावे लोडिंग बढ़ाना या लोडिंग घटाने की भी समस्या आती है तो कार्यालय जाने की जरूरत नहीं है. अपने स्मार्टफोन से शिकायत दर्ज करें तुरंत काम हो जाएगा .

बिहार में प्रीपेड मीटर लगाने का अच्छा रिस्पांस मिला

वही ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि हमारी सरकार ऊर्जा के क्षेत्र में बिहार में क्रांति लाई है. आज हर घर में बिजली पहुंच चुका है, लेकिन बिजली का खपत कम से कम हो काम भरी एक लाइक हो, जिससे बिजली बचाई जासके उसको लेकर हम लोगों ने प्रीपेड मीटर का शुरुआत किया है. डेढ़ सालों में बिहार में प्रीपेड मीटर लगाने का अच्छा रिस्पांस मिला है और बिहार पूरे देश में पहला राज्य बना है, जहां सबसे ज्यादा प्रीपेड मीटर लगा है. हालांकि मंत्री बिजेंद्र यादव ने यह भी कहा कई जगहों से प्रीपेड मीटर का विरोध भी सुनने को मिला है.

मंत्री बिजेंद्र यादव ने कहा कि उन लोगों को कहना चाहता हूं कि पहले मोबाइल का भी विरोध हुआ था. आज हर जगह सभी के हाथ में मोबाइल है. प्रीपेड मीटर अच्छा व्यवस्था है, इससे आपकी बिजली बिल भी कम लगेगी. क्योंकि आप उतना ही बिजली खपत करेंगे, जितनी आपकी जरूरत है.