बिहार में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई कदम उठा रही है। इस दिशा में राजधानी स्थित बिहार म्यूजियम और पटना म्यूजियम को जोड़ा जाना है। इसके लिए एक सुरंग बनाई जानी है, जिसके माध्यम से लोग एक से दूसरे म्यूजियम में जा सकेंगे। यह सुरंगे पूरी तरह वातानुकूलित (एसी लगी) होगी। बता दें तीन साल में यह सुरंग बनेगी। इसके माध्यम से पर्यटक एवं आम लोग बिहार म्यूजियम एवं पटना म्यूजियम एक साथ घूम पाएंगे। इन दोनों म्यूजियम को जोड़ने के लिए सुरंग बनाने के लिए बहुत जल्द काम शुरू हो जाएगा।

सुरंग बनाने पर 375 करोड़ रुपए खर्च होंगे। नगर विकास विभाग और दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड के बीच सात जनवरी को करार हो गया है। इस सुरंग के बनने से बिहार म्यूजियम से पटना म्यूजियम लोग जमीन के नीचे ही नीचे जा सकेंगे। इससे पर्यटकों की संख्या में काफी इजाफा होने की उम्मीद है। सुरंग की लंबाई 1400 मीटर होगी। पटना मेट्रो के मार्ग और नालों को बचाते हुए सुरंग बनाई जानी है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (डीएमआरसी) द्वारा पटना मेट्रो का निर्माण किया जा रहा है।

पहले फेज में 37 करोड़ रुपए से होना है निर्माण
वित्तीय वर्ष 2022-23 में सुरंग निर्माण के लिए पहले फेज का काम करने के लिए 37 करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं। इस पर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 149 करोड़ रुपए और वित्तीय वर्ष 2024-25 में 187 करोड़ रुपए खर्च होंगे। सुरंग बिहार म्यूजियम से तारामंडल के पास विद्यापति मार्ग तक बनेगी। वहां से घूमकर सुरंग विद्यापति मार्ग से होते हुए पटना म्यूजियम तक पहुंच जाएगी। सुरंग वातानुकूलित होने के साथ अन्य कई सुविधाओं से लैस रहेगी। यह तीन मीटर ऊंची और तीन मीटर चौड़ी होगी।

तेजी से होगा निर्माण कार्य
सुरंग बनाने के लिए चयनित एजेंसी डीएमआरसीएल का कहना है कि दोनों म्यूजियम को जोड़ने के लिए सुरंग काफी तेजी से बनाई जाएगी। अभी शहर में मेट्रो बनाने का चल रहा है। इसे भी डीएमआरसीए कर रहा है। शहर में कई सुरंग और अंडरग्राउंड स्टेशन मेट्रो के लिए भी बनाए जाने हैं। इनके लिए एजेंसी ने टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) मंगवा ली है। इस वजह से काम में देरी नहीं होने की संभावना है। बता दें बिहार म्यूजियम का उद्घाटन 22 मार्च 2021 को हुआ था। म्यूजियम में विश्व भर की कई प्रसिद्ध कलाकृतियां हैं। इससे पहले सिर्फ पटना म्यूजियम था, जो कई वर्ष पुराना है। हाल में इसका जीर्णोद्धार किया गया है।