मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महत्वाकांक्षी बिहार टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी को लॉन्च किया. इस कार्यक्रम में उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन के अवाले राज्य के दोनों उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी भी शामिल हुए हैं. इस नीति के तहत बिहार सरकार उद्योगपतियों को लुभाने के लिए उद्यमियों को अनुदान देगी. इस मौके पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में 2006 से उद्योग लगाने का प्रयास जारी है.

बिहार में उद्योग धंधों पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में 2006 से उद्योग लगाने का प्रयास जारी है. उन्होंने कहा कि पहले के मुकाबले में अब निवेशक ज्यादा आकर्षित हुए हैं. राज्य सरकार वित्तीय मदद हमेशा से करती आ रही है. पेटेंट में सरकार के तरफ से 50 फीसदी अनुदान तय है. वहीं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि बिहार एथेनॉल उत्पादन में नंबर वन राज्य बनेगा. उद्योग लगने से सूबे के युवाओं के मिलेगा काम. सीएम ने कहा कि उद्यमी हमें सुझाव दें, हमें हर संभव मदद करेंगे.

बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने दावा किया कि टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी देश की बेस्ट पॉलिसी है. उन्होंने कहा कि ट्रेड सब्सिडी के साथ-साथ कंपनियों को भी लाभ होगा. उद्योग मंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर में 4 बड़े एथेनॉल प्लांट लगाया जा रहा हैं. बिहार एथेनॉल का हब बनेगा और 7 नए प्लांट को मंजूरी मिल गई है. उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन बिहार में टेक्सटाइल और लेदर इंडस्ट्री का हब बनाने की घोषणा करते रहे हैं और उस पर अब काम शुरू है.

बता दें कि बिहार टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी के तहत बिहार सरकार उद्योगपतियों को लुभाने के लिए उद्यमियों को अनुदान देगी. ताकि जो राज्य में इस पॉलिसी के तहत निवेश करना चाहते है उन्हें इसका फायदा मिल सके और वो यहां निवेश के लिए प्रोत्साहित हो सकें. टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी में कई तरह की सुविधाएं निवेशकों को दी जाएगी. बिहार टेक्सटाइल और लेदर उद्योग के क्षेत्र में निवेश करने वाले निवेशकों को 80 लाख प्रति वर्ष तक विद्युत शुल्क अनुदान दिया जाएगा. वहीं 10 करोड़ तक का पूंजी निवेश अनुदान के तहत दिया जाएगा.