बिहार को इंडस्ट्रियल हब बनाने की दिशा में बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। बीते हुए कुछ महीनों में बिहार को इथेनॉल उत्पादन के क्षेत्र में बड़ी कामयाबी मिली है। बिहार का एथेनॉल कोटा दोगुना हो गया है। इसके साथ ही बिहार में अब कम से कम 17 इथेनॉल उत्पादन इकाइयों का खुलना तय हो गया है। पहले जहां बिहार का इथेनॉल कोटा 18.5 करोड़ लीटर था अब वह बढ़कर लगभग दोगुना यानी 36 करोड़ लीटर हो गया है। बढ़े हुए कोटा के चलते बिहार में 17 इथेनॉल उत्पादन इकाइयां खुलनी तय हो गई है। यह इकाइयां मुजफ्फरपुर, नालंदा, बक्सर पूर्णिया, भोजपुर, बेगूसराय, मधुबनी, गोपालगंज, पूर्वी चंपारण और भागलपुर समेत कई जिलों में लगाई जाएंगी।

जब से सैयद शाहनवाज हुसैन बिहार के उद्योग मंत्री बने हैं तबसे एथेनॉल उत्पादन को लेकर वे लगातार केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय के साथ संपर्क में है। उनके लगातार पेट्रोलियम मंत्रालय के साथ से बात करने का यह शानदार परिणाम है। शाहनवाज हुसैन मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी के शुक्रगुजार हैं कि छोटी दीवाली के दिन बिहार को बड़ा तोहफा मिला है। मंत्री जी ने कहा हमारे यहां 3382 करोड़ के निवेश प्रस्ताव इथेनॉल उद्योग लगाने के लिए आए हैं, और हम तब तक नहीं रुकेंगे जब तक कि बिहार के हर जिले में यह उद्योग नहीं लग जाएगा।

इसके आगे मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा कि इस निवेश को पाने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री जी के सहयोग से हर कोशिश की। जब भी मुझे कोई दिक्कत आई, मैंने कुछ दिक्कत को मुख्यमंत्री जी के सामने रखा और मुख्यमंत्री जी के निर्देश के अनुसार आगे बढ़ा। इस प्रोजेक्ट के लिए हमने दिल्ली में अमित शाह जी, पीयूष गोयल जी, हरदीप सिंह पुरी जी हर किसी से बिहार के लिए बात की और नतीजा अब आपके सामने है। आगे मंत्री जी ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी एक किसान के पुत्र हैं इसलिए वह हर समय किसानों की भलाई के बारे में सोचते रहते हैं और उस दिशा में उनसे जो नही मदद मांगी जाती है उसे पूरा करने में वह नहीं हिचकते। इसके