जमुई. केंद्र प्रायोजित विकास योजना का जायजा लेने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री दो दिवसीय दौरे पर जमुई में हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नित्यानंद राय ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के किए गए विशिष्ट कार्यों और उपलब्धियों को गिनाया। कोरोना काल में गरीबों को मुफ्त खाद्यान देने की योजना के साथ ही 115 आकांक्षी जिलों में विकास की अलग कार्य योजनाएं लागू किए जाने का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा 350 सीटें जीतेगी। केंद्रीय मंत्री ने वर्तमान में लाउड’अजान’ को लेकर लाउडस्पीकर के मुद्दे पर भी अपनी बात कही। हालांकि, बिहार के संदर्भ में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने मीडिया के सवालों का सीधा जवाब नहीं दिया।

नित्यानंद राय से सवाल पूछा गया कि उत्तर प्रदेश में धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाए जाने के बाद बिहार में भी इस तरह की मांग उठने लगी है। ऐसे में वर्तमान बिहार सरकार को क्या करना चाहिए। इस पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जो भी निर्णय लेते हैं, सोच समझ कर लेते हैं। उनका हर निर्णय उत्तर प्रदेश के हित के लिए होता है और उनका यह निर्णय भी स्वागतयोग्य है। बिहार में होनी चाहिए या नहीं, इस पर केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि यह मैं वहां के लिए कह रहा हूं, जहां यह लागू है।

बता दें कि शुक्रवार को पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के आवास पर आयोजित इफ्तार में शामिल होने के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इस मुद्दे पर अपनी राय जाहिर की थी। उन्होंने साफ कर दिया था कि वे धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने की बात से असहमत हैं। नीतीश कुमार ने इसे फालतू का मसला बताते हुए कहा कि बिहार में इन सब बातों का कोई मतलब नहीं है। बगैर किसी का नाम लिए नीतीश कुमार ने कहा कि जिसे जो करना है करें धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने का कोई मतलब ही नहीं है। यह सब फालतू की बात है और हम इससे सहमत नहीं हैं।

बता दें कि सबसे पहले बिहार सरकार में भाजपा कोटे के मंत्री जनक राम ने कहा था कि जब होली, दिवाली जैसे पर्व के समय डीजे और तेज गति वाले वाहन पर रोक लग सकती है तो मस्जिदों से लाउडस्पीकर से तेज आवाज में अजान पर भी रोक लगाई जानी चाहिए।जनक राम ने यहां तक कहा कि लाउडस्पीकर की तेज आवाज से पढ़ने वाले बच्चों और अन्य लोगों को कठिनाई होती है। मंत्री और जनप्रतिनिधि होने के नाते मुझे इसकी शिकायत मिलती रहती है इसलिए इसे सामने रख रहा हूं. जनक राम की बातों का मंत्री नितिन नवीन और प्रमोद कुमार ने भी समर्थन किया था।

इसके बाद जेडीयू नेता और संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने जवाब देते हुए कहा  कि बिहार में बीजेपी के जो लोग भी सलाह दे रहे हैं उन्हें इस तरह की जानकारी होनी चाहिए कि बिहार में अकेले बीजेपी की सरकार नहीं है। बिहार में एनडीए की सरकार है और उस सरकार के मुखिया नीतीश कुमार हैं। जब तक सरकार के मुखिया नीतीश कुमार है तब तक बिहार में कुछ भी ऐसा नहीं होगा जिसको लेकर कोई बहुत विवाद हो या जनता के बीच गलत मैसेज जाए।