गुरुवार को बिहार में अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। गुरुवार को तेज पछुआ हवाओं के प्रवाह ने राज्य के 15 जिलों में पारा 40 डिग्री के पार पहुंचा दिया है। पिछले 24 घंटों में ढाई डिग्री की बढ़ोतरी के साथ बक्सर का अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। इससे पहले नौ अप्रैल को अधिकतम तापमान 44.7 डिग्री पहुंचा था। बक्सर जिले में यह अधितकम तापमान का अब तक का रिकॉर्ड है। हालांकि 2019 में गया में अधिकतम पारा 46 पार भी जा चुका है।

पटना में भी लोग भीषण गर्मी झेल रहे हैं। अधिकतम तापमान में चार डिग्री की बढ़ोतरी के साथ पारा 41.2 डिग्री पर पहुंच गया। बांका राज्य का दूसरा सबसे गर्म शहर रहा। यहां अधिकतम तापमान 42.9 डिग्री रहा। गया में 42.2 डिग्री, पश्चिम चंपारण में 41.3 डिग्री, जमुई में 40.9 डिग्री, वैशाली में 40.5 डिग्री, सीतामढ़ी में 40.4 डिग्री, औरंगाबाद में 42.5 डिग्री, बेगूसराय में 40.8 डिग्री, खगड़िया में 40.9 डिग्री, नवादा में 41.2 डिग्री, नालंदा में 41 डिग्री और ●सीवान में 42 डिग्री दर्ज किया गया।

बिहार में भषण गर्मी और लू को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी जिलों के लिए दिशा निर्देश जारी किया है। आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी जिलों के डीएम को अलर्ट जारी करते हुए इसकी निगरानी का निर्देश दिया है। इसके साथ ही विभाग ने भीषण गर्मी एवं लू से बचाव को लेकर जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश सभी जिलों के डीएम को दिया है। 

आपदा प्रबंधन विभाग ने सार्वजनिक जगहों पर पेजयल की व्यवस्था के साथ ही लू प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए अस्पतालों में विशेष व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। आपदा विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि भीषण गर्मी एवं लू से बचाव की दिशा में कार्रवाई के लिए विस्तृत दिशा निर्देश दिए गए हैं।उन्होंने कहा कि स्कूली बच्चों को भीषण गर्मी से बचाव के लिए आवश्यक है कि विद्यालय सुबह की पाली में ही संचालित किए जाएं। 

इसको लेकर संबंधित जिला पदाधिकारी के द्वारा समीक्षा कर निर्णय लिया जाना चाहिए। सभी स्कूलों एवं परीक्षा केंद्रों में पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। साथ ही कार्यस्थल पर पेयजल तथा लू लगने पर प्राथमिक उपचार की व्यवस्था की जानी चाहिए। आपदा विभाग द्वारा ने आम लोगों से विभाग द्वारा जारी निर्देशों का पालन करने की अपील की है। 

बताते चलें कि बिहार में गर्मी और लू के कारण जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हो चुका है। राजधानी पटना समेत बिहार के ज्यादातर इलाके में हीटवेव की कंडीशन है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी बिहार में गर्मी को लेकर चिंता जताई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि इस बार गर्मी ज्यादा पड़ रही है। ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत है।