बिहार सरकार बगैर किसी पहचान कार्ड और अवैध तरीके से राज्य में रह रहे बांग्लादेशियों के खिलाफ कार्रवाई करने का मन बना रही है. ऐसे घुसपैठियों की पहचान कर उन्हें जेल भेजा जाएगा और उनके ठिकाने (घर) पर भी बुलडोजर चलाया जाएगा. मीडिया से बातचीत में राज्य के राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय ने यह दावा किया है. बुलडोजर मंत्री के नाम से मशहूर रामसूरत राय ने कहा कि उन्हें अपने विभाग के अधिकारियों के द्वारा या अन्य स्रोतों से यह जानकारी मिल रही है कि बॉर्डर से सटे इलाके में बांग्लादेशी अवैध रूप से रह रहे हैं. इसकी जानकारी और पुख्ता तरीके से ली जा रही है. उन्होंने आम लोगों से भी आग्रह किया कि अगर ऐसी कोई जानकारी उनके पास है तो वो इसे साझा करें. ऐसे लोगों की पहचान कर उनके अवैध ठिकाने (मकान) पर जल्द से जल्द बुलडोजर चलाया जाएगा.

रामसूरत राय ने कहा कि बिहार में ऐसे तमाम जगहों पर राजस्व भूमि सुधार विभाग की नज़र है जहां सरकारी ज़मीनों पर कब्जा कर मकान बना कर लोग अवैध रूप से रह रहे हैं. उसके हर पहलू को देखने के बाद अगर यह स्पष्ट होता है कि सरकारी ज़मीन पर अतिक्रमण है तो उसे छोड़ा नहीं जाएगा. ऐसे अवैध घुसपैठियों पर एक हफ्ते के अंदर बुलडोजर चलाया जाएगा. उन्होंने कहा कि कल (मंगलवार) ही इस पर महत्वपूर्ण बैठक किया गया है और तमाम जिलों के अधिकारियों से इसका पूरा ब्यौरा मांगा गया है. जहां-जहां सरकारी ज़मीनों पर अवैध निर्माण हुआ है अधिकारियों से इसकी पहचान कर एक सप्ताह के अंदर उस पर बुलडोजर चलाने का निर्देश दिया गया है.

बता दें कि कुछ महीने पहले भी कुछ जिलों के डीएम और एसपी ने इस तरह के पत्र लिखे थे जिसमें अवैध नागरिकों (बांग्लादेशी) के रहने की बात कही गई थी जिसको लेकर राजनीति खूब गर्माई थी. अब राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री के बयान के बाद यह मामला एक बार फिर से गर्मा सकता है. ऐसी ख़बरें पहले भी आती रही हैं कि बांग्लादेश से अवैध शरणार्थी बिहार की सीमा के अंदर दाखिल होते हैं और रहते आ रहे हैं. बीजेपी के नेता भी इस मुद्दे को समय-समय पर उठाते रहते हैं.