महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की कृपा पाने के लिए रुद्राभिषेक का विधान है। श्रद्धालु राशिवार बाबा का रुद्राभिषेक करके समस्त बाधाओं से मुक्ति पा सकते हैं। इस बार महाशिवरात्रि पर्व पंचग्रही योग मकर राशि पर बन रहा है। इसके साथ ही मकर राशि पर चंद्रमा, मंगल, बुध, शुक्र और शनि की युति बन रही है, ऐसा संयोग प्राय: 65 वर्ष बाद प्राप्त हो रहा है।

आचार्य दैवज्ञ कृष्ण शास्त्री ने बताया कि हमारे शास्त्रों में वर्णन है कि पूरे वर्ष में 11 मास शिवरात्रि एवं जो फाल्गुन कृष्ण पक्ष की शिवरात्रि है वहां महाशिवरात्रि के नाम से विख्यात है। जिस दिन बाबा भूत भावन भोलेनाथ का शुभ मंगल विवाह उत्सव पार्वती जी के साथ संपन्न हुआ था। सभी देवता देव हैं। लेकिन भोलेनाथ देव नहीं अपितु महादेव हैं।

उनकी तपस्या एवं पूजा अर्चना करके कठिन से कठिन कार्य सरल हो जाते हैं और समस्त प्रकार के ग्रह आदि बाधाओं से भी मुक्ति पा सकते हैं। राशिवार रुद्राभिषेक करके समस्त बाधाओं से मुक्ति मिल सकती है। जिन लोगों की राशि का ज्ञान नहीं है वह लोग अपनी कामना के अनुसार भी रुद्राभिषेक करा सकते हैं।

इसमें दूध से अभिषेक कराने पर पुत्र की प्राप्ति, गन्ने से अभिषेक कराने पर यश की प्राप्ति, मधु से अभिषेक कराने पर लक्ष्मी की प्राप्ति, दधि से वाहन की प्राप्ति, कुश से पितृ दोष का निवारण, तीर्थ जल से मोक्ष की प्राप्ति, जल से अभिषेक कराने पर ज्वर की शांति होती है।

राशिवार रुद्राभिषेक

  • मेष राशि वाले जातकों को देशी गाय के कच्चे दूध में शहद मिलाकर अभिषेक करने से समस्त ग्रह बाधाएं शांत होंगी। साथ में लाल चंदन, लाल पुष्प चढ़ाने से धन-धान्य में वृद्धि होगी ।
  • वृष राशि वाले जातकों को इस वर्ष दही से अभिषेक करने पर समस्त बाधाओं से मुक्ति मिलेगी, सफेद पुष्प सफेद फल और सफेद वस्त्र चढ़ाना लाभदायक होगा।
  • मिथुन राशि वाले जातकों को गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करने से हर प्रकार से ग्रह बाधाओं से मुक्ति होगी साथ साथ में धतूरा, हरा पुष्प ,भांग हरा फल चढ़ाना लाभदायक होगा।
  • कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा हैं इस कारण दूध में शक्कर मिलाकर रुद्राभिषेक करना चाहिए, साथ साथ में सफेद वस्त्र सफेद मिष्ठान्न सफेद मदार का पुष्प चढ़ाना लाभदायक होगा। 
  • सिंह राशि वाले जातकों को मधु या तीर्थ मिश्रित गुड़ से अभिषेक करना चाहिए, साथ में लाल पुष्प लाल वस्त्र और श्री रोली भगवान शिव को अर्पित कर सकते हैं। 
  • कन्या राशि के जातकों को गन्ने के रस से अभिषेक करना चाहिए एवं भांग धतूरा मंदार का पत्र मंदार का पुष्प चढ़ाना चाहिए ।
  • तुला राशि वाले जातकों को मधु से रुद्राभिषेक कराना चाहिए साथ में भाग मंदार पुष्प और सफेद वस्त्र चढ़ाना लाभदायक होगा । 
  • वृश्चिक राशि वाले जातकों को शहद युक्त तीर्थजल से रुद्राभिषेक कराना लाभदायक होगा, साथ में लाल पुष्प लाल फल और लाल मिष्ठान में चढ़ाना लाभदायक होगा। 
  • धनु राशि वाले जातकों को गाय के दूध में केसर मिलाकर रुद्राभिषेक कराने से समस्त बाधाएं दूर होंगी साथ में पीला वस्त्र पीला फल भांग धतूर चढ़ा सकते हैं ।
  • मकर राशि वाले जातकों को गंगाजल अथवा शमी के रस से रुद्राभिषेक कराने से लाभ प्राप्त होगा साथ में शमी पत्र भाग धतूरा चढ़ा सकते हैं । 
  • कुंभ राशि के जातकों को दूर्वा अथवा शमी के रस से रुद्राभिषेक कराना चाहिए और साथ साथ में दूर्वा शमी मंदार पुष्प चढ़ाना लाभदायक होगा । 
  • मीन राशि वाले जातकों को केसर मिश्रित दूध से अभिषेक कराना लाभदायक होगा साथ साथ में हल्दी केला और पीला पुष्प पीला फल पीला मिष्ठान में चढ़ाना लाभदायक होगा।