हर साल लाखों की संख्या में अभ्यर्थी यूपीएससी की परीक्षा देते हैं लेकिन इसमें सफल सिर्फ कुछ ही अभ्यर्थी हो पाते हैं। यूपीएससी की परीक्षा देश के सबसे कठिन परीक्षाओं में एक मानी जाती है। इस परीक्षा को देने के लिए देश के कोने-कोने में हर साल अभ्यार्थी बड़े-बड़े कोचिंग इंस्टिट्यूट में पढ़ते हैं और कड़ी मेहनत करते।

आईएएस अफसर बनने के लिए सबसे पहले आपको कठिन परिश्रम के साथ-साथ एक सकारात्मक सोच रखना होगा। बिना सकारात्मक रणनीति के आप इस परीक्षा को पास नहीं कर सकते हैं। इस परीक्षा में काफी कम ही अभ्यर्थी पास हो पाते हैं। आज हम आपको एक ऐसी लड़की की कहानी बताने वाले हैं जिसने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर इस कठिन परीक्षा को पास कर दिखाए।

आज हम आपको उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर की रहने वाली प्रतिभा वर्मा के बारे में बताने वाले हैं। प्रतिभा वर्मा की शुरुआती पढ़ाई सुल्तानपुर से हुई। दसवीं करने के बाद उन्होंने सीबीएसई से 12वीं की परीक्षा दिया। 12 वीं की परीक्षा देने के बाद प्रतिभा अपने आईएएस की तैयारी के लिए दिल्ली चली गई।

प्रतिभा ने आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) से बीटेक किया। साल 2014 में आईआईटी दिल्ली से बीटेक करने के बाद प्रतिभा ने फोन की एक कंपनी में दो साल तक जॉब किया लेकिन जॉब की दौरान उन्होंने UPSC की तैयारी का फैसला किया।

2016 में प्रतिभा ने नौकरी छोड़ दिया और आईएएस की तैयारी में जुट गई। पहले प्रयास में प्रतिभा वर्मा असफल हो गई लेकिन उन्होंने हार नहीं माना। दूसरी बार उन्होंने फिर से परीक्षा दिया और दूसरी बार उन्हें 489 वा स्थान मिला।

IRS क्लियर करने के बाद वह ट्रेनिंग पर चली गई जिसके बाद भी वह IAS की तैयारी में जुटी रही। काम के साथ वह तैयारी भी करती रहीं और साल 2019 में वह यूपीएससी एग्जाम में तीसरी रैंक हासिल कर आईएएस अफसर बनीं।