यूपीएससी जैसे बड़े परीक्षाओं को बात करने के लिए एक बेहतर रणनीति होनी चाहिए। अगर आप मेहनती हैं और आपकी रणनीति अच्छी नहीं है, तो आप को यूपीएससी जैसी बड़ी परीक्षा पास करने में काफी वक्त लग सकता है, परंतु अगर आपकी रणनीति अच्छी हो तो आपके यूपीएससी जल्द पास करने की संभावना बढ़ जाती है।

आज ऐसे ही एक आईएएस अधिकारी के बारे में आपको बताएंगे, जिन्होंने 23 साल की उम्र में ही अपने बेहतर रणनीति और कड़ी मेहनत के कारण आईएएस की परीक्षा पास की और आईएफएस बन गए। महज 23 साल की उम्र में ही आईएएस की परीक्षा पास करने वाले इस शख्स का नाम है दिव्यांशु सिंगल।

आइए जानते हैं दिव्यांशु सिंगल के बारे में

राजस्थान के केसरीसिंहपुर के एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं दिव्यांशु सिंगल। दिव्यांशु के पिता अशोक सिंघल हैं, वह एक प्राइवेट स्कूल के प्रबंधक हैं, माता कॉलेज में लेक्चरर हैं । माता पिता के शिक्षित होने के चलते दिव्यांशु पढ़ने लिखने में बचपन से ही तेज थे। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा केसरीसिंहपुर से की। बचपन से ही तेज होने के कारण वह 12वीं में श्री गंगानगर जिले में विज्ञान संकाय में 97.20 परसेंट लाकर पूरे जिला टॉप किया। उसके पश्चात वे आगे की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली चले गए।

दिव्यांशु ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिंदू कॉलेज से ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन गणित सब्जेक्ट में किया । पढ़ाई में अच्छे होने के कारण ग्रेजुएशन में उन्होंने कॉलेज टॉप किया जिसके उपरांत उस समय के दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल विज ने उन्हें पुरस्कृत किया। ग्रेजुएशन के समय से ही दिव्यांशु ने यूपीएससी एग्जाम देने का मन बना लिया था ,हालांकि उन्होंने यूपीएससी को ध्यान में रखकर ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन नहीं किया जिसके चलते उन्हें यूपीएससी की तैयारी करने में उन्हें दिक्कतें आई।

परीक्षा की तैयारी टॉपर्स के इंटरव्यू को देखकर करें

दिव्यांशु कहते हैं कि यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले उसका सारा सिलेबस देख लेना चाहिए। परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले विभिन्न टॉपर्स की इंटरव्यू भी देख लेना चाहिए ,उससे काफी मदद मिलती है। दिव्यांशु आगे कहते हैं की ऑप्शनल सब्जेक्ट का चुनाव करते समय बहुत ही सावधानी बरतनी चाहिए, जिस सब्जेक्ट में विशेष रूचि हो उसी सब्जेक्ट को ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में चुनना चाहिए। दिव्यांशु की रुचि गणित विषय में ज्यादा थी, इसलिए उन्होंने गणित को ही अपना ऑप्शनल सब्जेक्ट चुना।

Pic credit: dainik bhaskar

दिव्यांशु पहले ही प्रयास में आईएएस बने

2019 में यूपीएससी की परीक्षा पहले प्रयास में ही 60 वीं रैंक लाकर दिव्यांशु आईएएस बने। 2019 की आईएफएस की परीक्षा में 13 वीं और यूपीएससी सीएसई की परीक्षा में 60वीं रैंक लाकर दिव्यांशु ने परचम लहराया। उनके इस सफलता से माता पिता बहुत खुश हुए। उन्होंने बताया की वह upsc की तैयारी के दौरान 12 से 13 घंटा की पढ़ाई किया करते थे।आगे उन्होंने बताया कि अगर सच्चे दिल से सही डायरेक्शन में पढ़ाई की जाए तो,सफलता जरूर मिलती है।