दरभंगा एम्स के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। कैबिनेट ने इसके निर्माण के लिए 200 एकड़ जमीन की स्वीकृति दे दी है। मिथिला क्षेत्र के लोगों के साथ-साथ बिहार के सभी लोगों को बिहार सरकार ने दिवाली पर एक बड़ा गिफ्ट दिया है। बता देती केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमत में कटौती करने का निर्णय लिया है और बुधवार को बिहार सरकार की कैबिनेट बैठक में कुल 22 एजेंडो पर मुहर लगा दी गई है जिसमें बिहार सरकार ने दरभंगा एम्स के लिए निर्माण हेतु जमीन का चयन कर केंद्र सरकार को सौंप दिया है जिसके बाद यह माना जा रहा है कि दरभंगा एम्स का निर्माण बहुत जल्द शुरू होगा और बिहार वासियों को बिहार के दूसरे एम्स की सौगात मिल जाएगी।

जानिए दरभंगा एम्स के लिए कितनी भूमि की गई आवंटित

जानकारी के अनुसार राजधानी पटना में बिहार सरकार की कैबिनेट की बैठक में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के दरभंगा जिले के सदर अंचल के वार्ड नंबर 28 की 34.4072 हेक्टेयर, वार्ड नंबर 29 की 22.6367 हेक्टेयर और वार्ड नंबर 30 की 13.7197 हेक्टेयर अर्थात कुल 70.7636 हेक्टेयर जमीन और बहादुरपुर अंचल के मौजा बलभद्रपुर थाना नंबर 534 की रकबा 25.1600 एकड़ जमीन, संपूर्ण रखवा का योग 200.02 एकड़ भूमि सभी संरचना सहित एम्स की स्थापना के लिए भारत सरकार को देने के लिए रिपोर्ट तैयार कर दिया है।

इसके साथ साथ दरभंगा में एम्स के निर्माण के लिए 200 एकड़ भूमि बिहार सरकार द्वारा भारत सरकार को मुफ्त ट्रांसफर किए जाने पर श्रम संसाधन विभाग और सूचना प्रावैधिकी विभाग, बिहार सरकार के मंत्री जीवेश कुमार ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम मंत्री भूमि एवं राजस्व विभाग रामसूरत राय और स्वास्थ्य विभाग के मंत्री मंगल पांडे को धन्यवाद दिया है।

वही बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा ने भी खुशी जाहिर की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “मिथिला वासियों के दिवाली का तोहफा आज राज्य मंत्रिमंडल में दरभंगा में एम्स के निर्माण के लिए 200.02 एकड़ भूमि केंद्र राज्य सरकार को आवंटित करने की स्वीकृति दे दी है। जिसके बाद बड़ा सपना अब जल्द धरातल पर उतरेगा। दरभंगा में एम्स बनने पर मिथिला वासियों के साथ-साथ आसपास के जिलों/राज्यों और नेपाल के लोगों को विशिष्ट इलाज यही मिल जाएगा।