देश प्रदेश में इन दिनों बेटियां अपनी मेहनत और लगन से अपने पूरे परिवार का नाम रोशन कर रहे हैं। जिस तरह बिहार बोर्ड की 10वीं परीक्षा में एक किसान की बेटी ने टॉप किया था उसी तरह मध्यप्रदेश में भी एक बेटी ने टॉप कर अपने पिता का सर गर्व से ऊंचा कर दिया। मध्य प्रदेश शिक्षा बोर्ड ने दसवीं के परिणाम घोषित किए जिसमें छतरपुर के नैंसी दुबे ने 500 में से 496 अंक लाकर टॉप किया। नैंसी के पिता किसी और की दुकान में मजदूरी करते हैं। छतरपुर जिले के नारायणपुरा की रहने वाली नैंसी कुल चार बहनें और एक भाई है। पिता मजदूरी करते हैं तो मां गृहणी हैं। बिटिया की सफलता पर पूरे परिवार को गर्व है। टॉप करने के बाद नैंसी के घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

मां की आंखों में आ गए आंसू

सुबह से ही नैंसी के परिवार के लोगों को रिजल्ट का इंतजार था। दोपहर एक बजे रिजल्ट की घोषणा हुई। परिणाम देखकर परिवार के लोग खुशी से उछल पड़े। नैंसी ने 500 अंकों की परीक्षा में 496 अंक पाकर प्रदेश में प्रथम स्थान पाया है। टॉपर बनने के बाद नैंसी के परिवार में उत्साह का माहौल है। बेटी के रिजल्ट आने के बाद मां की आंखों में आंसू आ गए है। परिवार में अब बिटिया की सफलता पर लड्डू बंट रहे है।

नैंसी रोज 6 किलोमीटर साइकिल चलाकर स्कूल जाती थी। आज सुविधाओं के अभाव में रहने वाले बच्चे भी लगातार अच्छा कर रहे हैं। नैंसी की सफलता उन बच्चों के लिए सबक है जो सभी सुविधाओं के होते हुए भी जीवन में अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर पा रहे।