पटना: राजधानी पटना के विश्वेश्वरैया बिल्डिंग में बुधवार की सुबह लगी आग ने अब राजनीतिक तूल पकड़ लिया है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे और विधायक तेज प्रताप यादव ने कहा है (Tej Pratap Statement on fire in Patna Visvesvaraya Building) कि घोटाले की फाइल को दबाने के लिए यह आग लगा दी गई है। आग लगी नहीं है, बल्कि लगाई गई है। अगलगी की इस घटना की उच्च स्तरीय जांच हो। तेजप्रताप ने मौके पर मुआयना करने के बाद यह बातें कही।

अहम है विश्वेश्वरैया बिल्डिंग:

बता दें कि राजधानी के नया सचिवालय के पास स्थित विश्वेश्वरैया भवन में बुधवार की सुबह अचानक भीषण आग लग गई। आग बहुत भीषण थी। सुबह 7:45 बजे के करीब देखा गया कि पांचवीं मंजिल से धुआं निकल रहा है। जिसके बाद फायर बिग्रेड को सूचना दी गई। इस इमारत में बिहार सरकार की तमाम इंजीनियरिंग विभाग के कार्यालय हैं। शुरुआती जानकारी के अनुसार आग तीसरी मंजिल से पांचवी मंजिल तक लगी।

विश्वेश्वरैया भवन में लगी आग:

शार्ट सर्किट से आग लगने की संभावना जताई जा रही है। हालांकि आग लगने की सूचना के साथ ही फायर ब्रिगेड की पूरी टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने में जुट गई। बता दें कि विश्वेश्वरैया भवन में फिलहाल मरम्मत का भी कार्य चल रहा है। गौरतलब है कि राजधानी पटना के विश्वेश्वरैया भवन (Fire at Visvesvaraya Bhavan) में सुबह-सुबह अचानक आग लग गई।

आग पर नहीं पाया गया काबू:

आग की वजह से मौके पर अफरा-तफरी का माहौल बन गया। घटना की जानकारी दमकल टीम को दी गई। आग की सूचना के तुरंत बाद मौके पर फायर ब्रिगेड की टीम पहुंच गई। इसके साथ ही पुलिस की टीम भी मौके पर मौजूद है। इस दौरान बिल्डिंग में फंसे लोगों को रेस्‍क्‍यू किया गया। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है लेकिन शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगने की आशंका जताई जा रही है।