पटना : शनिवार को योजनाबद्ध ढंग से उड़ाई गई एक अफवाह ने पटना से लेकर दिल्‍ली तक की राजनीति में हलचल मचा दी। दोपहर के वक्‍त नेताओं के मोबाइल और फोन घनघनाने शुरू हो गए। केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस की राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी (रालोजपा) में टूट की चर्चा इतनी तेज उड़ी कि 24 घंटे गुजरने के बाद भी पार्टी के नेता सफाई देते फिर रहे हैं। रविवार को पार्टी के पांच में से चार सांसदों ने पटना में प्रेस वार्ता कर पार्टी के एकजुट होने का दावा किया।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में जताई आस्‍था 

लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद प्रिंस राज, सांसद चौधरी महबूब अली कैसर, वीणा देवी, च॔दन सिंह प्रेस वार्ता में कहा कि रालोजपा में टूट को अफवाह बताया। प्रिंस राज ने कहा कि सभी सांसद की एकजुटता है और किसी ने अफवाह फैलाकर सांसदों की टूट की खबर चलवायी। हम सब की आस्था प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ हैं। हम सभी राजग के साथ हैं।

नीतीश पर लगाया जंगलराज लाने का आरोप 

अपने चचेरे भाई चिराग पासवान का बिना नाम लिए प्रिंस राज ने आरोप लगाया कि उनके गुट के कई नेता सीधे हमारे संपर्क में हैं। कुछ दिनों में वह गुट खत्म हो जाएगा। सांसद चंदन सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार ने महागठबंधन के साथ जंगलराज लाने का काम किया है। यह महागठबंधन सरकार विकास नहीं बल्कि बिहार विनाश की ओर ले जाएगा। यदि भाजपा जदयू को तोड़ना होता तो नीतीश को सीएम क्यों बनाती?

इन तीन सांसदों के टूटने की फैली थी अफवाह 

इससे पहले रालोजपा के अध्यक्ष एवं केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री पशुपति कुमार पारस ने कहा है कि हमारी पार्टी के सभी सांसद पूरी तरह एकजुट और राजग के साथ हैं। शनिवार को दोपहर बाद तेजी से अफवाह उड़ी कि रालोजपा के तीन सांसद नवादा के चंदन सिंह, वैशाली की वीणा सिंह और खगडिय़ा के महबूब अली कैसर टूटकर अलग गुट बना रहे हैं।

नरेंद्र मोदी की सरकार फिर से बनना तय 

रविवार को आयोजित प्रेस वार्ता में सांसद चंदन सिंह ने कहा कि 2024 में एकबार फिर मोदी की केंद्र में सरकार बनेगी। दल बदल कर नीतीश कुमार क्या साबित करना चाहते हैं? उन्‍होंने कहा कि उनकी पार्टी नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में अगला चुनाव लड़ेगी। संसदीय बोर्ड की अध्यक्ष वीणा देवी ने कहा कि पारस जी हमारे नेता हैं और मोदी जी एनडीए के पीएम हैं। भाजपा और एनडीए एकजुट है।उन्‍होंने चिराग पासवान को झूठा हनुमान कहा। कहा कि कयह कैसा हनुमान है जो एनडीए में आग लगाने में लगे हैं।