राजधानी पटना के गांधी घाट पर फिर से गंगा महाआरती का आयोजन शुरू होगा. प्रत्येक शनिवार और रविवार को गांधी घाट पर गंगा महाआरती होगी. महाआरती का समय सूर्यास्त से शुरू होगा और रात्रि 10 बजे तक रहेगा. इसके बाद कार्यक्रम समाप्त होने के बाद घाट को खाली कराया जाएगा. प्रशासन की ओर से इसे लेकर विस्तृत गाइडलाइन जारी की गई है.

जानकारी के अनुसार, पटना डीएम और एसएसपी ने सोमवार को जारी अपने संयुक्तादेश में कहा है कि महाआरती के दौरान भीड़ प्रबंधन, सुरक्षा व्यवस्था, यातायात व्यवस्था को दुरुस्त रखा जाएगा. इसके लिए पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी और पुलिस बल की तैनाती रहेगी. इस संबंध मे आवश्यक निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए हैं.

कोरोना प्रोटोकॉल के साथ होगी महाआरती

गांधी घाट में शनिवार और रविवार को आयोजित होने वाली महाआरती कोरोना प्रोटोकॉल के साथ होगी. ​प्रशासन की ओर से इस संबंध में भी निर्देश जारी किए हैं. गांधी घाट पर एक अस्थायी नियंत्रण कक्ष स्थापित किया जाएगा. इसका निर्माण बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम लिमिटेड पटना द्वारा किया जायेगा. इसके अलावा यहां रोस्टरवार कर्मियों की प्रतिनियुक्ति भी की जाएगी.

आदेश मे कहा गया कि महाआरती के दौरान एनआइटी गेट से आगे गांधी घाट की ओर वाहनों की आवाजाही बंद रहेगी. हालांकि, इस दौरान पुलिस, प्रशासन तथा आवश्यक सेवा के वाहनों को अनुमति रहेगी. ट्रैफिक पुलिस द्वारा वाहनों की पार्किंग सड़क के किनारे एवं खाली स्थानों पर कराई जाएगी.

गंगा महाआरती के दौरान गंगा नदी में नाव का परिचालन भी पूरी तरह बंद रहेगा. हालांकि, सरकारी कार्य में संलग्न नाव एवं मोटर बोट पर प्रतिबंध नहीं रहेगा. एनआइटी गेट के पास एवं उसके दक्षिण तिराहा पर ट्रॉली-ड्रॉप गेट की व्यवस्था होगी.