निजी घरों की छत पर सोलर पावर प्लांट लगाने को लेकर ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। उपभोक्ता सीधे अपनी बिजली कंपनी साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन या नॉर्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध लिंक की मदद से आवेदन कर सकेंगे।

बिजली कंपनियों की वेबसाइट पर उपभोक्ता संख्या डालते ही आवेदन की प्रक्रिया प्रारंभ हो जायेगी। आवश्यक लोड, तस्वीर, पहचान पत्र वबिजली बिल अपलोड कर 500 रुपये आवेदन शुल्क जमा करते ही उनका आवेदन प्रोसेस में आ जायेगा। आगे की प्रक्रिया के लिए उनको बिजली कंपनी में सूचीबद्ध वेंडरों में से किसी एक का चयन करना होगा। फिर एजेंसी के द्वारा स्थल निरीक्षण कर सोलर प्लांट लगाने की मंजूरी दी जायेगी। पूरी प्रक्रिया को वेबसाइट पर ट्रैक किया जा सकेगा।

कोई भी व्यक्ति अपने निजी परिसर में एक से दस किलोवाट, जबकि हाउसिंग सोसाइटीज में 500 किलोवाट क्षमता तक का सोलर पावर प्लांट लगवा सकेंगे। तीन किलोवाट तक सोलर पावर प्लांट लगवाने पर 65 फीसदी, जबकि उससे अधिक क्षमता के सोलर पावर प्लांट लगाने पर 45 फीसदी सरकारी अनुदान मिलेगा। चयनित वेंडर के द्वारा पांच वर्षों तक लगाये गये रूफटॉप का रखरखाव किया जायेगा। वैसे सोलर पैनल सामान्यत: 25 वर्षों तक कार्य करता है।

चयनित होने पर उपभोक्ता को अपने हिस्से की राशि दो किस्तों में सीधे वेंडर के खाते में भुगतान करनी होगी। पहली किस्त की 80 फीसदी राशि समझौते पर हस्ताक्षर के साथ ही एडवांस भुगतान होगा। दूसरी किस्त की 20 फीसदी राशि उपभोक्ता के परिसर में आवश्यक सामग्री डिलिवरी करने के बाद भुगतान की जायेगी। सरकार इसमें सब्सिडी भी दे रही है।