संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने आज 30 मई को यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2021 के फाइनल रिजल्ट की घोषणा कर दी है. इस बार परीक्षा में लड़कियों ने बाजी मारी है. वहीं अगर बिहार की बात करें तो यहां से सिविल सेवा परीक्षा का रिजल्ट हमेशा अच्छा रहा है. 

यूपीएससी फाइनल रिजल्ट में श्रुति शर्मा ने ऑल इंडिया रैंक 1 हासिल किया है. इस साल सभी शीर्ष तीन पदों पर लड़कियों ने कब्जा किया है. श्रुति सेंट स्टीफंस कॉलेज और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की पूर्व छात्र हैं और जामिया मिलिया इस्लामिया आवासीय कोचिंग अकादमी में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रही हैं.

सिविल सेवा परीक्षा में बिहार के कई अभ्‍यर्थियों ने सफलता हासिल की है. मोतिहारी के पताही प्रखंड स्थित नारायणपुर गांव निवासी शुभंकर प्रत्यूष पाठक को 11वीं रैंक मिली है. उनके पिता आरके पाठक भारत सरकार में तकनीकी विकास बोर्ड में सचिव हैं. उन्‍होंने आइआइटी धनबाद से बीटेक किया है. 16वीं  रैंक वाली अंशु प्रिया भी बिहार की हैं. पटना के बिस्कोमान कालोनी के निवासी हरेंद्र सिंह के पुत्र आशीष ने परीक्षा में 23वां स्थान प्राप्त किया है. हरेंद्र सिंह शेखपुरा जिले के बरबीघा में प्राइवेट आइटीआइ कालेज का संचालन करते हैं.

कटिहार जिले के अमन अग्रवाल को 88वां रैंक मिला हे। उनके पिता दुर्गा लाल अग्रवाल कटिहार के राज हाता के रहने वाले हैं. यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा में मुजफ्फरपुर के दो युवकों ने परचम लहराया है. दोनों जिले के मीनापुर प्रखंड के हैं. प्रखंड के अभिनव ने 146वीं रैंक हासिल की है. मारवाड़ी हाई स्कूल के शिक्षक उमेश्वर सिंह के पुत्र अभिनव ने आइआइटी रूड़की से बीटेक की डिग्री ली है. 272 रैंक हासिल करने वाले विद्यासागर भी बिहार के निवासी हैं.