बिहार सरकार राशन कार्ड धारकों को बड़ी सहूलियत देने जा रही है. बता दें कि अब बार-बार राशन कार्ड बनवाने की टेंशन से लोगों को मुक्ति मिलने वाली है. जल्द ही स्मार्ट कार्ड योजना लागू होने जा रही है. इसकी वजह से 1 करोड़ 81 लाख राशन कार्ड धारक परिवारों को स्मार्ट कार्ड दिए जाएँगे. स्मार्ट कार्ड एक बार बनने के बाद लाभार्थी परिवारों को फिर से दूसरा राशन कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. या स्मार्ट राशन कार्ड का इस्तेमाल लोग एटीएम के रूप में भी कर सकते हैं. कहा जा रहा है कि इससे राशन वितरण प्रणाली में पारदर्शिता बनी रहेगी जिससे दुकानदारो की मनमानी पर रोक लगेगा.

स्मार्ट राशन कार्ड को लेकर बताया जा रहा है कि इसमें एक क्यूआर कोड होगा जिससे कार्डधारक को कहीं भी और किसी भी PDS दुकान से राशन लेने में सुविधा होगी. वहीं ध्यान दें कि राशनकार्ड में सामिल सदस्यों में जिनका आधार सिडिंग नहीं हुआ है वे 31 मार्च तक आधार सिडिंग करा लें. आधार सिडिंग को लेकर बोलते हुए बिहार सरकार के खाद्य सचिव विनय कुमार ने बताया कि वन नेशन वन राशन कार्ड अंतर्गत आधार सिडिंग एवं सत्यापन का कार्य सुनिश्चित करने का निर्देश सभी अनुमंडल अधिकारियों को दिया गया है. लाभार्थियों को किसी भी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए दुकानदारों द्वारा आधार सिडिंग के कार्यों में सहयोग लिया जा रहा है. साथ ही नेशनल पोर्टेबिलिटी के फायदे बताए जाने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है. आधार कार्ड लिकिंग के साथ ही सत्यापन भी किया जाएगा, जिससे राशन कार्ड में अनियमिता व गड़बड़ी जैसी परेशानी का सामना न करना पड़े.

आधार सिंडिंग को लेकर यह भी बताया गया है कि बिहार में लाभुक परिवारों की वास्तविक संख्या 1 करोड़ 81 लाख की है. यानी कि इस हिसाब से 8 करोड़ 81 लाख लोग राशन का लाभ ले रहे हैं. इस हिसाब से यह कहा जा रहा है कि हर परिवार के लगभग सभी सदस्यों का नाम पूरा हो चुका है. अगर हम सरकार के सभी आंकड़ों को देखें तो 7 करोड़ 11 लाख लोगों का आधार सिंडिंग हो चुका है. अब जो बात निकलकर सामने आ रही है. एक करोड़ 60 लाख लोगों का आधार सिंडिंग नहीं हुआ है. ऐसे में अब सरकार की तरफ से साफ-साफ कहा गया है कि जिनका आधार राशन कार्ड राशन से नहीं जुड़ा है वे 31 मार्च तक अपना राशन कार्ड आधार कार्ड से जोड़ने की बात कही गई है.

ऐसे में एक बात और जो कही गई है उसमें यह कहा गया है कि एक राशन कार्ड परअधिकतम 20 लोगों का नाम जुड़ सकता है. साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर 20 लोगों से अधिक राशन कार्ड नहीं रहेगा. ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि अगर किसी परिवार का सदस्य 20 से ज्यादा होता है तो दूसरा राशन कार्ड बनेगा.