13 सितंबर की शाम बेगूसराय जिले के चार थाना क्षेत्र में अपराधियों ने गोलीबारी की बड़ी घटना को अंजाम दिया था. बेगूसराय शूटआउट की इस घटना में 10 लोगों को गोली मारी गई थी, जिनमें एक की मौत हो चुकी है. इस मामले में 3 दिन बाद पुलिस ने सफलता का दावा किया है एवं सीसीटीवी फुटेज के आधार पर चिन्हित 4 अभियुक्तों को गिरफ्त में लेने की बात कह रही है. लेकिन, अभी तक इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है. इस बहाने केंद्रीय मंत्री व बेगूसराय से सांसद गिरिराज सिंह ने सीधा सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला है.

गिरिराज सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा, यह बेह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूरी बिहार सरकार इस मामले की लीपापोती कर रही है. तुष्टिकरण के तहत अपराधियों का नाम छिपाया जा रहा है. गिरिराज सिंह ने आगे कहा,  बिहार में सरकार चलाई जा रही है या मजाक किया जा रहा है. बेगूसराय में जो हुआ है वह सीरियल कीलिंग या सिंपल फायरिंग की घटना नहीं; बल्कि आतंकी घटना है. बिहार के 13 जिले आतंकियों के स्लीपर सेल बन चुके हैं. घटना की जांच सीबीआई और एनआईए से कराई जाए.

बता दें कि सीएम नीतीश कुमार ने बेगूसराय शूटआउट के मामले पर सबसे पहला जो बयान दिया था उसमें उनपर जातीय एंगल देने की कोशिश का आरोप लगा था. हालांकि, इसपर उन्होंने गुरुवार को सफाई भी दी थी. मगर उनकी पार्टी जदयू के कई नेताओं पर इस घटना को सियासी एंगल देने की कोशिश के आरोप लगे हैं. कई नेता इसे बिना जांच के ही भाजपा और आरएसएस की साजिश करार दे दिया. पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने भी इसके नागपुर कनेक्शन की जांच की बात कही थी.

दूसरी ओर पुलिस की ओर से इस मामले में बताया जा रहा है कि चारों आरोपियों के नाम सामने आ गए हैं. इनमें बेगूसराय बीहट नगर परिषद क्षेत्र के सुमित कुमार, युवराज कुमार, एवं केशव कुमार उर्फ नागा के घटना में संलिप्त होने की बात बताई जा रही है. साथ ही सिंघौल थाना क्षेत्र के रहने वाले अर्जुन का भी नाम सामने आ रहा है. लेकिन, केशव के ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस के द्वारा निर्दोष लोगों को फंसाया जा रहा है और जबरन केशव एवं उसके परिवार के साथ बदसलूकी करते हुए उसकी गिरफ्तारी की गई है.

केशव की मां का कहना है कि अगर उसका पुत्र केशव गुनाहगार है तो उसे फांसी की सजा दे दी जाए, लेकिन निर्दोष को फंसाने का पुलिस के द्वारा प्रयास किया जा रहा है. ग्रामीणों के अनुसार सीसीटीवी फुटेज में केशव का कुछ फुटेज सामने आ रहा है जिसमें 13 तारीख की शाम 5:45 पर वह बिहट में ही एक होटल के समक्ष बैठा हुआ दिखाई दे रहा है.

ग्रामीणों का कहना है कि सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि इतनी बड़ी घटना को केशव के द्वारा कैसे अंजाम दिया गया; क्योंकि लगभग 35 किलोमीटर के दायरे में गोलीबारी की घटना की गई थी और पुलिस के अनुसार घटना का वक्त 5:00 बजे से लेकर 5:45 तक बताई जा रही है. बहरहाल अब सबकी निगाहें बेगूसराय पुलिस की ओर है जो इस मामले का खुलासा करने की बात कह रही है. जाहिर है इसके बाद ही इस पर कुछ कहा जा सकता है.