बिहार में महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी पाने का शानदार मौका है. राज्य स्वास्थ्य विभाग में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की 10 हजार से ज्यादा भर्ती निकली है. वहीं बिहार में जल्द ही 30 हजार महिला कोऑर्डिनेटर की बहाली भी होने जा रही है. यानी की महिलाओं के लिए 40 हजार से ज्यादा पदों पर नौकरियों का मौका है. बिहार टेक्निकल सर्विस कमीशन (BTSC) ने बिहार महिला स्वास्थ्यकर्ताओं के 10,709 पदों को भरने के लिए नोटिफिकेशन निकाला है. इन पदों के लिए 2 अगस्त 2022 से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होगी. बिहार टेक्निकल सर्विस कमीशन की आधिकारिक वेबसाइट www.btsc.nic.in जाकर ज्यादा जानकारी ले सकते हैं.

राज्य स्वास्थ्य विभाग में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की जो 10,709 पदों पर भर्ती निकली है. उसमें जनरल: 3,539 पद, ईबीएस: 868, एससी: 2,188 पद, एसटी: 82 पद, ओबीसी: 2,403 पद, बीसी: 1,191 पद, बीसी महिला: 438 पद शामिल है. आवेदन शुरू होने की तारीख: 02 अगस्त 2022 और आवेदन की अंतिम तारीख: 01 सितंबर 2022 है. वहीं बिहार सरकार और केंद्र की महिलाओं के सुरक्षा, शिक्षा, और उनके आर्थिक विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं को पंचायत स्तर तक पहुंचाने के लिए 30 हजार महिला कोऑर्डिनेटर की बहाली की जानी है. बिहार के समाज कल्याण विभाग ने इसका पूरा प्रस्ताव तैयार कर लिया है. इस प्रस्ताव को कैबिनेट बैठक में भेजा जाएगा. और कैबिनेट से मंजूरी मिलती ही बहाली की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.

महिला कोऑर्डिनेटर को लेकर अभी तक पूरा प्रस्ताव सामने नहीं आया है, लेकिन बताया जा रहा है कि मैट्रिक या इंटर पास महिलाओं को इसमें नियुक्त किया जा सकता है. सभी कोऑर्डिनेटर संविदा के आधार पर नियुक्त की जाएंगी. इन महिला कोऑर्डिटनेटरों को मानदेय भी दिया जाएगा. कोऑर्डिनेटर के पद पर नियुक्त होने वाली सभी महिलाएं पंचायत स्तर पर नियुक्त की जाएंगी. सभी नियुक्त महिलाएं पंचायतों में जाकर गांव की महिलाओं को चल रही योजनाओं की जानकारी देंगी और मदद पहुचाएंगीं.

बता दें कि पूरे बिहार में 30 हजार कोऑर्डिनेटर महिलाएं शिक्षा संवर्धन, आर्थिक उन्नयन सहित न्यायिक प्रक्रिया में भी सहयोग करेगी. गांव में बाल विवाह रोकना हो, महिला को शिक्षा दिलवानी हो, स्कूल नहीं जाने पर लड़कियों के माता पिता से मिलकर काउंसिलिंग कर स्कूल पहुंचाने का भी काम महिला कोऑर्डिनेटर करेंगी. बताया जा रहा है कि ये महिला कोऑर्डिनेटर उत्पीड़न का शिकार होने वाली महिलाओं को न्यायिक प्रक्रिया में भी सहयोग करेंगी. साथ ही राशन कार्ड बनाने, आधार, बैंक अकाउंट खुलवाने और आंगनबाड़ी योजनाओं को प्रचार करने में भी मदद करेंगी. ऐसे में काम की तलाश कर रही महिलाओं के लिए बड़ी खुशखबरी है.