बिहार (Bihar) में बीजेपी-जेडीयू (BJP-JDU) का गठबंधन (Alliance) टूट गया है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने इस्तीफा दे दिया है. इस मामले पर एबीपी न्यूज (ABP News) से खास बातचीत में आरजेडी (RJD) नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद शरद यादव (Sharad Yadav) ने कहा है कि वो खुश हैं कि पुराने साथी एक बार फिर साथ आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि साल 2015 के चुनाव में इसी गठबंधन को वोट पड़ा था.

उपमुख्यमंत्री और स्पीकर पद आरजेडी पार्टी के पास रहेंगे- शरद 

शरद यादव ने बिहार में होने वाले नए गठबंधन पर बात करते हुए कहा कि उपमुख्यमंत्री और स्पीकर पद आरजेडी पार्टी के पास रहेंगे. इसी बात पर समझौता हुआ है. उन्होंने कहा कि विपक्ष के पास अब नीतीश कुमार के रूप में प्रधानमंत्री का चेहरा भी हो गया है. वो विपक्ष का प्रधानमंत्री का चेहरा भी हो सकते हैं. वो एक विश्वसनीय चेहरा हैं.

तो वहीं आरजेडी (RJD) के कद्दावर नेता उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि नये स्वरूप में नये गठबंधन के नेतृत्व की जवाबदेही के लिए नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जी को बधाई. नीतीश जी आगे बढ़िए. देश आपका इंतजार कर कर रहा है. यहां देश इंतजार कर रहा है मतलब पीएम उम्मीदवार (PM Candidate) की ओर इशारा है.

इस वजह से पड़ी JDU-BJP में दरार

सूत्रों के मुताबिक किसी एक घटना की वजह से नहीं बल्कि पिछले साल डेढ़ साल में जिस तरह से बीजेपी (BJP) और जेडीयू (JDU) अलग-अलग मुद्दों पर आमने सामने आए हैं वह सभी इस दूरी को बढ़ाते चले गये हैं. हाल फिलहाल की घटनाओं की बात की जाए तो पहले स्पीकर के साथ नीतीश (Nitish Kumar) की कहा सुनी, उसके बाद अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) के दौरान बीजेपी नेताओं के द्वारा नीतीश पर सवाल उठाना और बाद में उनमें से तमाम नेताओं को केंद्रीय सुरक्षा प्रदान करना. मतलब साफ है कि एक-एक कर तमाम ऐसे मुद्दे रहे हैं जिसकी वजह से बीजेपी और जेडीयू के बीच में दूरी बढ़ती चली गई. हालांकि कोशिश जरूर की गई कि इस दूरी को पाटा जा सके लेकिन ऐसा हो नहीं सका.