15 साल पुरानी गाड़ियों को सड़कों से हटाने के लिए नई स्क्रैप पॉलसी केंद्र द्वारा लाई गई है, जल्द ही बिहार सरकार भी इसे लागू कर सकती है। बिहार परिवहन विभाग इससे जुड़ा मसौदा तैयार कर रहा है। जिनके पास भी 15 साल पुरानी गाड़ियां हैं उन्हें फिटनेस प्रमाण पत्र लेने और रजिस्ट्रेशन करवाने में अधिक पैसे खर्च करने होंगे।

Pic Credits: Hindustan Times

मोटरसाइकिल रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल में लगेगा 2 गुना चार्ज

अगर कोई पुरानी मोटरसाइकिल को 10 स्क्रैप कर नई गाड़ी लेंगे तो मैनुअल चलने वाली मोटरसाइकिल की फिटनेस प्रमाण पत्र के लिए मात्र 400 तो सेल्फ वाली मोटरसाइकिल के लिए ₹500 देने होंगे। अगर आप 15 साल पुरानी मोटरसाइकिल चलाना चाहते हैं तो उस मोटरसाइकिल की फिटनेस प्रमाण पत्र के लिए आपको ₹1000 देना होगा। तीन पहिया वाले या हल्के मोटरयान वाली गाड़ी को स्क्रैप करवा कर अगर कोई नई गाड़ी खरीदेंगे तो उन्हें मैनुअल गाड़ी में मात्र 800 तो सेल्फ वाली गाड़ियों के फिटनेस में ₹1000 देने होंगे।

हल्के मोटर वाहनों के लिए पत्र ₹100 तक फिटनेस शुल्क

अगर आपके पास 15 साल पुरानी तीन पहिया गाड़ी है तो उसके फिटनेस के लिए 3 गुना अधिक ₹3000 देने होंगे। इसी प्रकार अगर आपके पास से 15 साल पुराने हल्के मोटरयान वाले वाहन हैं तो उनके फिटनेस प्रमाण पत्र के लिए आपको ₹ 7500 खर्च करने होंगे।15 साल पुरानी गाड़ियों का फिटनेस प्रमाण पत्र लेना होगा महंगा, केंद्र सरकार के बाद राज्य सरकार भी जल्दी ले सकती है फैसला।