बिहार विधानसभा के बजट सत्र का आज दसवां दिन है. शुक्रवार को सदन के 10वें दिन PMCH समेत अन्य अस्पतालो में घोटाला का आरोप लगाते हुए आरजेडी और भाकपा माले के विधायकों ने बिहार विधानसभा के बाहर जमकर प्रदर्शन किया. वहीं बिहार में अब जन प्रतिनिधियों को बंदूक रखने का अधिकार मिलेगा. पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा है कि जनप्रतिनिधि को सरकार सुरक्षा देने की योजना बनाई है.

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा है कि सभी त्रिस्तरीय चुनाव में जीते हुए जनप्रतिनिधि को सरकार सुरक्षा देने की योजना बनाई है. अब जन प्रतिनिधियों को बॉडीगार्ड और हथियार का लाइसेंस भी सरकार देगी. यानि कि बिहार में मुखियाजी अब बंदूक रख सकेंगे. गृह विभाग ने सभी जिलों के डीएम, एसएसपी और एसपी को पंचायती राज प्रतिनिधियों को आर्म्स लाइसेंस देने का निर्देश दिया है. दरअसल पंचायत चुनाव के बाद हाल के दिनों में जन प्रतिनिधियों पर लगातार हमले हुए. जिसको देखते हुए यह फैसला लिया गया है.

वहीं 4 राज्यों में बीजेपी की प्रचंड जीत का असर सदन में भी देखने को मिला. दसवें दिन भाजपा के कई विधायक गेरुआ वस्त्र धारण करके विधानसभा में पहुंचे. बिहार सरकार में उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने चार राज्यों में बीजेपी की जीत पर कहा कि कन्याकुमारी से कश्मीर तक अब बीजेपी की लहर दिख रही है. यूपी के चुनाव में जिस तरह से बीजेपी ने प्रचंड बहुमत हासिल की है. इससे विरोधियों में घबराहट है.

बता दें कि बिहार विधानसभा के बजट सत्र के 10वें दिन स्पीकर से बदतमीजी मामले पर विधानसभा में बीजेपी-आरजेडी ने फिर हंगामा किया. राजद विधायक ने सदन में कहा कि आसन से नियमन होने और सरकार की तरफ से कार्रवाई का आश्वासन के बाद भी डीएसपी व थानेदारों पर कार्रवाई नहीं हुई. राजद विधायक के साथ भाजपा विधायक भी खड़े हो गए और खूब हंगामा किया. भाजपा विधायक संजय सरावगी ने सवाल उठा दिया कि लखीसराय वाले मामले में अब तक सरकार की तरफ से जवाब नहीं आया है.