बिहार में शिक्षक नियुक्ति के छठे चरण में प्लस टू स्कूलों में खाली पदों के लिए विशेष काउंसेलिंग होगी. बताया जा रहा है कि जुलाई 2019 से चल रहे छठे चरण के शिक्षक नियोजन को खत्म करने के लिए दो जिला परिषदों पटना और सारण के अलावा तमाम नगर परिषदों के लिए प्रथम , दूसरे और तीसरे राउंड की काउंसेलिंग का शेड्यूल हफ्ते के अंत तक जारी होने की संभावना है. शिक्षा विभाग ने इसकी औपचारिक तैयारी कर ली है. इस शेड्यूल को हर हाल में फरवरी मध्य तक निबटा दिया जायेगा. जिला परिषद पटना के लिए पहले राउंड की काउंसेलिंग करायी जायेगी. यहां अभी एक बार भी काउंसेलिंग नहीं हुई है. यहां करीब माध्यमिक स्कूलों में 456 और उच्च माध्यमिक पदों के लिए 677 पदों के लिए काउंसेलिंग करायी जानी है.

छपरा में हो गयी पहले राउंड की काउंसेलिंग
छपरा जिला परिषद में पहले राउंड की काउंसेलिंग हो चुकी है. इस तरह सारण और दूसरी निकायों में रिक्त पदों की संख्या भी सैकड़ों में है. चूंकि अधिकतर जिला परिषद नियोजन इकाइयों में पहले राउंड की काउंसेलिंग के बाद अधिकतर सीटें खाली रह गयी हैं. उसे देखते हुए दूसरे राउंड की काउंसेलिंग करायी जानी है. फिलहाल हजारों पदों को भरने का प्रयास सरकार की तरफ से किया जा रहा है. यह काउंसेलिंग मैरिट लिस्ट के हिसाब से ही करायी जायेगी.

कोर्ट ने नियोजन को किया था स्थगित
एसटीइटी 2011 में उत्तीर्ण अप्रशिक्षित उम्मीदवारों ने बाद में विभिन्न सत्रों में बीएड की परीक्षा पास करने के आधार पर छठे चरण की नियोजन प्रक्रिया में शामिल होने वाले उम्मीदवारों के संबंध में याचिका दायर की थी. हाइकोर्ट ने 15 सितंबर, 2022 को छठे चरण के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक बहाली पर रोक लगायी थी. इस पर शिक्षा विभाग ने 26 सितंबर को एक आदेश जारी कर नियोजन की कार्रवाई को अगले आदेश तक स्थगित किया था. हाल ही में कोर्ट ने नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने के लिए कह दिया है. मालूम हो कि प्लस टू स्कूलों के लिए 32 हजार से अधिक पदों में केवल अब तक 2700 पदों को ही भरा जा सका है.