रूस-यूक्रेन युद्ध में जान गंवाने वाले भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदार का पार्थिव शरीर सोमवार को भारत लाया जाएगा। यूक्रेन के प्रमुख शहरों में से एक खारकीव में जारी संघर्ष में नवीन की 1 मार्च को मौत हो गई थी। कर्नाटक के हावेरी जिले में रहने वाले नवीन खारकीव नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी में MBBS के छात्र थे। छात्र के पिता ने बताया कि उन्होंने बेटे का देहदान करने का फैसला किया है। राज्य के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई ने परिवार को 25 लाख रुपये का चेक सौंपा है। साथ ही एक सदस्य को नौकरी देने का वादा किया है।

खारकीव में गोलीबारी का शिकार हुए नवीन का पार्थिव शरीर सोमवार को बेंगलुरु पहुंचेगा। इस बात की जानकारी उनके पिता शेखरप्पा ने दी। उन्होंने कहा, ‘मेरे बेटे का शव 21 तारीख को सुबह 3 बजे बेंगलुरु पहुंचेगा। वहां से शरीर हमारे गांव सुबह 9 बजे आएगा। इसके बाद हम वीर शैव परंपरा के अनुसार पूजा करेंगे और बाद में शव को लोगों के दर्शन के लिए रखा जाएगा और इसके बाद हम मेडिकल स्टडीज के लिए एसएस हॉस्पिटल देवनगरी को शरीर दान कर देंगे।’

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘मेरा बेटा मेडिकल क्षेत्र में कुछ हासिल करना चाहता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कम से कम उसके शरीर का इस्तेमाल अन्य छात्र मेडिकल स्टडीज के लिए कर सकेंगे। इसलिए घर पर हम लोगों ने मेडिकल रिसर्च के लिए शव दान करने का फैसला किया है।’ इससे पहले  सीएम बोम्मई ने साफ किया था कि नवीन का शव बेंगलुरु एयरपोर्ट पर रविवार नहीं सोमवार को पहुंचेगा।

नवीन के पिता ने कहा, ‘हमें हावेरी जिला कलेक्टर से संदेश मिला और अमीरात उड़ान सेवा से भी मैसेज मिला। हम कम से कम खुश हैं कि हमारे बेटे का शव वापस लाया जा रहा है। सीएम ने मुझसे बात की और आभार जताया। उन्होंने यह भी कहा कि वे बेंगलुरु एयरपोर्ट और गांव भी पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि वे मुझसे शाम में चर्चा करेंगे।’