“लाइफ में सबसे बड़ा रिस्क होता है, कभी रिस्क ना लेना।”  बर्फी फिल्म का ये डायलॉग इस 23 साल के लड़के पर बिलकुल फिट बैठता है। जिसने अपना दिमाग लगाकर मात्र 17 साल की उम्र से स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना सुरु कर दिया और आज बह  23 साल की उम्र में 100 करोड़ के मालिक हैं। जी हां, 23 साल की उम्र में करोड़पति। तो आइये जानते है इस होनहार लड़के की कहानी। 

‘स्टॉक मार्केट’ से जमकर पैसे कमाने बाला युवा

शेयर बाजार यानी स्टोक मार्केट। जंहा ना उदय का पता न पतन का। जंहा कब कोई करोड़पति हो जाए तो कब कोई करोड़पति से खाकपति। लेकिन इनसबके बीच वॉरेन एडवर्ड बफेट, बेंजामिन ग्राहम, जॉर्ज सोरोस, राकेश झुनझुनवाला और राधाकिशन दमानी जैसे कुछ ऐसे बड़े नाम है, जिन्होंने शेयर मार्केट से सोहरत और दौलत दोनों कमाई। इन सभी बड़े लोगो को शेयर बाजार का बिग बुल कहा जाता है। 

वंही इन बड़े नामो की लिस्ट में एक और भारतीय युवा का नाम जुड़ चुका है, जिसका नाम है संकर्ष चंदा। उम्र् मात्र 23 साल है, लेकिन बह आज करोड़पति है। हैदराबाद के रहने वाले इस 23 वर्षीय युवा ने 17 साल की उम्र में भारतीय शेयर बाजार में निवेश करना शुरू कर दिया था। और देखते ही देखते आज वो 100 करोड़ रुपए के मालिक बन गए। 

पढ़ाई छोड़ने के बाद बनाई कंपनी!

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो,संकर्ष एक फिनटेक स्टार्टअप सावर्ट (Savart) के संस्थापक हैं, जो लोगों को स्टॉक, म्यूचुअल फंड और बॉन्ड में निवेश करने में मदद करता है. उनकी कंपनी का पंजीकृत नाम स्वोबोधा इन्फिनिटी इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स प्राइवेट लिमिटेड है। 

आपको बता दे, संकर्ष ने 2017 में बेनेट युनिवर्सिटी (ग्रेटर नोएडा) ड्राप करने के बाद सिर्फ 8 लाख रुपए निवेश कर कंपनी की शुरुआत की थी। वे बीटेक कंप्यूटर साइंस के छात्र थे। लेकिन स्टॉक मार्केट में समय देने के लिए उन्होंने अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी। वंही आज शेयर बाजार के इस महारथी का हैदराबाद के गगन महल में 2,000 वर्ग फुट का ऑफिस है जहां 35 लोग काम करते हैं। 

12वीं के बाद निवेश शुरू कर बनाई 100 करोड़ की संपत्ति

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, संकर्ष ने  2016 में शेयर बाजार में निवेश करना शुरू किया था। उस समय उन्होंने शुरुआत में मात्र 2,000 रुपये से शुरुआत की और जब मुनाफा हुआ तो अगले दो वर्षों में 1.5 लाख रुपये का निवेश किया। इन पैसो से संकर्ष की किस्मत ऐसी पलटी की देखते ही देखते उनके निवेश के शेयर वैल्यू दो साल में करीब 13 लाख रुपये हो गई। 

इसके बाद संकर्ष ने साल 2017 में अपनी कंपनी शुरू करने के लिए 8 लाख रुपए के शेयर बेच दिए। उन्होंने बाकी पैसा बाजार में रखा और अपनी कमाई से अपने स्टार्टअप के जरिए निवेश करना जारी रखा। जिसके बाद इन्हें बहुत मुनाफा हुआ। एक इंटरव्यू के दौरान संकर्ष ने खुद बताया कि:-

“मेरी कुल संपत्ति अब 100 करोड़ रुपए है। यह सिर्फ मेरा शेयर बाजार निवेश नहीं है, बल्कि मेरी कंपनी के मूल्यांकन पर भी डिपेंड करता है।”

आपको बता दे, किताबे हर कामयाब सख्स की पहली सीढ़ी होती है। ऐसा ही कुछ संकर्ष के साथ भी हुआ है। उन्होंने 14 साल की उम्र में अमेरिकी अर्थशास्त्री बेंजामिन ग्राहम के एक लेख को पढ़ने के बाद शेयर बाजार में रुचि विकसित की थी। आपको बता दे,  ग्राहम बो महान लेखक है जिनको दुनिया ‘मूल्य निवेश के पिता’ के रूप में जानती है। 

यहां निवेश करने के लिए लेने होंगे सब्सक्रिप्शन

आपको बता दे, संकर्ष जो कंपनी चलाते है बह लोगो को शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए प्रेरित करती है। इसके लिए ग्राहकों को बह अपना सब्सक्रिप्शन बेचते है। यानी अगर आप संकर्ष से जुड़ना चाहते है तो उनका एक ऐप डाउनलोड करना होगा। और इसका सब्सक्रिप्शन लेने के लिए आपको प्रत्येक वर्ष 4,999 रुपए देने पड़ेंगे। ऐप विभिन्न बजटों के लिए विभिन्न निवेश विकल्प प्रदान करता है। संकर्ष के अनुसार, यह इतना आसान है कि आप छोटी रकम से भी निवेश शुरू कर सकते हैं। 

संकर्ष लिख चुके है किताब

आपको बता दे, साल 2016 में संकर्ष ने Financial Nirvana नामक एक पुस्तक भी लिखी। जो व्यापार और निवेश के बीच के अंतर के बारे में बताती है। इसके साथ ही ये निवेश में विविधता लाने और बाजार को समझने के लिए सुझाव भी देती है। संकर्ष के अनुसार, जो लोग शेयर बाजार में पैसा लगाने के इच्छुक है बह इस किताब से बहुत कुछ सीख सकते है। 

संकर्ष का परिवार भी कर रहा बिजनेस में मदद!

इतनी कम उम्र में संकर्ष करोड़पति बनने के बाद भी सादा जीवन जीना पसंद करते हैं। वे ज्यादातर समय टी-शर्ट और शॉर्ट्स में रहते हैं। उनके पिता, चंद्रशेखर चंदा, एक छोटी आईटी कंपनी लाते थे, लेकिन अब वे सावर्ट में फाइनेंस संभाल रहे हैं। उनकी बड़ी बहन तरुणी चंदा अमेरिका में एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और उनकी मां संगीता चंदा, कॉन्टेंट राइटिंग करती हैं, वह भी संकर्ष के बिजनेस में उनकी मदद कर रही हैं।