पटना. जनता दल युनाइटेड के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह आजकल जहां भी जा रहें उनके पक्ष में जदयू में उनके समर्थक कार्यकर्ता एक नारा जरूर लगाते हैं. ‘बिहार का सीएम कैसा हो, आरसीपी सिंह जैसा हो.’ अक्सर आरसीपी सिंह अपने समर्थकों को रोकते हुए भी नहीं दिखते हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आरसीपी सिंह के अच्छे रिश्ते नहीं रह जाने की खबरों के बीच ऐसे स्लोगन आरसीपी सिंह की परेशानी बढ़ाने वाले साबित हो सकते हैं. दरअसल, आरसीपी सिंह की सभा में मुख्यमंत्री हो आरसीपी सिंह जैसा के नारे लगाए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. जदयू के नेता इस पूरे मामले पर सख्त हैं और पार्टी की ओर से साफ कहा गया है कि जदयू में सर्वमान्य नेता सिर्फ नीतीश कुमार है और नीतीश कुमार के नाम के ही नारे लगाए जाते हैं. अगर किसी और नेता के सभा में कोई नारा लगाता है तो वह जदयू के कार्यकर्ता नहीं है.

बता दें कि जदयू के पार्टी कार्यालय में आज जदयू के तमाम प्रवक्ताओं की आपात बैठक बुलाई गई थी. चल रहे राजनीतिक गतिविधियों पर पार्टी लाइन के साथ अपनी बातों को रखने के बारे में तमाम प्रवक्ताओं को जानकारी दी गई. मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने साफ कहा कि जो भी इस तरह के कोई नारे लगाते हैं वे जदयू के कार्यकर्ता किसी भी रूप में नहीं हो सकते हैं. हमारे नेता सिर्फ नितीश कुमार हैं; और जदयू में सिर्फ नीतीश कुमार के नाम के ही नारे लगाए जाते हैं.

बता दें कि इसको लेकर जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने गुरुवार को ही कहा भी था कि पार्टी हर बात पर नजर रखती है और समय आने पर फैसला किया जाता है. जाहिर है इसे आरसीपी सिंह के भविष्य को लेकर जदयू की ओर से दिए जा रहे संकेत के तौर पर देखा जा रहा है. लेकिन, इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जेडीयू आलाकमान से तल्खी के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने भी बड़ा बयान देते हुए सीएम नीतीश कुमार की तारीफ की और जदयू अध्यक्ष ललन सिंह के बारे में अपने संबंधों की बात कही.

आरसीपी सिंह ने मुंगेर में एक कार्यक्रम के दौरान गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनकी जेडीयू अध्यक्ष ललन सिंह से कोई विवाद नहीं है. नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार में एनडीए की सरकार अच्छा काम कर रही है. आरसीपी सिंह जेडीयू नेता अरुण सिंह की मां के निधन पर शोक जताने मुंगेर पहुंचे थे. सबसे खास बात यह कि मुंगेर ललन सिंह का संसदीय क्षेत्र है और वहां आरसीपी सिंह ने मीडिया से बातचीत के दौरान ये बातें कहीं.

आरसीपी सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए की सरकार मजबूती से काम कर रही है. हम लोगों (ललन सिंह और आरसीपी सिंह) के बीच न कभी छत्तीस का आंकड़ा है, न कभी रहेगा. ललन बाबू जब मुंगेर से चुनाव लड़ रहे थे तब उनके समर्थन में हम आते रहते थे. हमारा पुराना संबंध है. हमारे बीच कोई विवाद नहीं है. बता दें कि आरसीपी सिंह का इस साल राज्यसभा का टिकट काट दिया गया था जिसके बाद उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा था. फिलहाल उनके पास पार्टी और सरकार में कोई पद नहीं है.