पटना. जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और बिहार के जाने-माने समाजवादी नेता वशिष्ठ नारायण सिंह (Vasisth Narayan Singh) की अचानक तबीयत खराब हो गई है जिसके बाद उनके बेहतर इलाज के लिए एयर एंबुलेंस (Air Ambulance) से दिल्ली भेजा गया है। उनको यहां एम्स के इमरजेंसी में भर्ती कराया गया है। बुधवार की सुबह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को वशिष्ठ नारायण सिंह की अस्वस्थता की सूचना मिली तो वो उनके आवास पर पहुंचे और उनका हाल-चाल जाना। इस दौरान पीएमसीएच (PMCH) के अधीक्षक और उनकी टीम वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पहुंच कर उनके स्वास्थ्य की जांच की और मुख्यमंत्री को इसकी विस्तृत जानकारी दी। इसके बाद सरकार ने तय किया कि बेहतर इलाज के लिए वशिष्ठ नारायण सिंह को दिल्ली के एम्स भेजा जाएगा।

सीएम नीतीश कुमार ने बीमार वशिष्ठ नारायण सिंह को तत्काल एयर एम्बुलेंस से दिल्ली भेजने का निर्देश दिया। जिसके बाद शाम पांच बजे वशिष्ठ नारायण सिंह को एयर एम्बुलेंस से पटना से दिल्ली रवाना किया गया। वशिष्ठ नारायण सिंह के साथ उनके करीबी नजम और एक डॉक्टर भी गए हैं। दिल्ली पहुंचने पर वशिष्ठ नारायण सिंह को एम्स में भर्ती कराया गया है।

इससे पहले, जैसे ही यह खबर बिहार के राजनीतिक गलियारों में पहुंची तो दादा का हालचाल जानने तमाम नेता उनके आवास पर पहुंचने लगे। जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह ने भी वशिष्ठ नारायण सिंह के घर जाकर उनकी सेहत की जानकारी ली। बाहर निकल कर उन्होंने मीडिया को बताया कि दादा की तबीयत पिछले कुछ दिनों से खराब चल रही है। उन्हें गैस की समस्या काफी बढ़ गई है और सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है। उन्होंने कहा कि उनकी अस्वस्थता को देखते हुए सरकार के द्वारा उन्हें बेहतर चिकित्सा के लिए दिल्ली एम्स भेजा जाएगा। उम्मीद है दादा जल्द स्वस्थ हो कर पटना लौटेंगे।

वहीं, वशिष्ठ नारायण सिंह की बीमारी का पता चलने पर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री और बीजेपी के नेता मंगल पांडे भी उनको देखने पहुंचे।

बता दें कि वशिष्ठ नारायण सिंह जे.पी आंदोलन के अग्रणी नेता रहे हैं। वो आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के साथी भी रह चुके हैं। वर्तमान में वो राज्यसभा में सांसद है।

बताया जा रहा है कि वशिष्ठ नारायण सिंह की तबीयत कई दिनों से खराब है। हाल में ही उनके कमर का ऑपरेशन हुआ था, उस वजह से समस्या आ रही है। साथ ही, पेट में बार-बार गैस की समस्या भी रह रही है इस कारण वो ठीक से खाना नहीं खा रहे हैं।