बिहार के सारण में विधान परिषद चुनाव में लालू प्रसाद यादव ने भी अपना नामांकन कराया (Lalu Yadav Files Nomination for MLC election in Saran) है। ये वो राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव नहीं हैं। लालू यादव छपरा के मढ़ौरा नगर पंचायत के रहीमपुर के रहने वाले हैं। इनकी तारीफ है कि अब तक वार्ड सदस्य से लेकर राष्ट्रपति तक का चुनाव लड़ चुके हैं। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में रहीमपुर निवासी लालू पूर्व CM राबड़ी देवी के खिलाफ भी मैदान में उतर चुके हैं। यह अलग बात है कि अभी तक वो एक भी चुनाव नहीं जीत सके हैं।

MLC चुनाव में लालू ने भरा पर्चा:

अपने सामाजिक कार्यों और राजद सुप्रीमो के हमनाम होने की वजह से जाने-जाने वाले लालू प्रसाद यादव खेती-किसानी से जुड़े हैं। वे बताते हैं कि उनके चुनावी सफर की शुरुआत 2001 से हुई थी। उसी वर्ष उन्होंने वार्ड सदस्य का चुनाव लड़ा था। उसके बाद आज तक सभी चुनाव लड़ते आ रहे हैं। साल 2020 में एक साथ सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद सीट के लिए और मढ़ौरा विधानसभा सीट से भी अपना नामांकन दाखिल किया था।

एक भी चुनाव नहीं जीते हैं लालू:

उन्होंने बिहार विधान परिषद चुनाव के लिए नामांकन कराया है। इन्हें सारण का धरती पकड़ भी कहा जाता है। धरती पकड़ इसलिए कहते हैं क्योंकि ये भी धरतीपकड़ जी की तरह वार्ड पार्षद से लेकर राष्ट्रपति तक का चुनाव लड़ चुके हैं और सभी हारे हैं। लालू प्रसाद यादव किसी भी पद के नामांकन के पहले दिन ही यह अमूमन अपना नामांकन दाखिल कर देते हैं। छपरा में भी अपना इन्होंने नामांकन एमएलसी चुनाव के लिए दाखिल कर दिया है।