आरजेडी सुप्रिमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) को आखिरकार एम्स में भर्ती ले लिया गया है। इससे पहले 22 मार्च को लालू प्रसाद को झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स से खराब सेहत के कारण दिल्ली रेफर कर दिया था। लालू यादव को मंगलवार को दिल्ली एम्स लाया गया था। यहां वे रातभर डॉक्टरों की निगरानी में रहे। लेकिन तबीयत ठीक होने के चलते उन्हें आज बुधवार सुबह 3 बजे डिस्चार्ज कर दिया गया। लेकिन एक बार फिर वो एम्स में भर्ती हो गए हैं।

सूत्रों ने कहा था कि लालू प्रसाद यादव की हालत स्थिर है इसलिए एम्स ने उन्हें रिम्स में ही अपना इलाज जारी रखने की सलाह दी थी।

लालू प्रसाद यादव को दिल्ली रेफर करते हुए रिम्स के मेडिकल बोर्ड के अध्यक्ष डॉ विद्यापति ने बताया था कि लालू प्रसाद यादव की किडनी के फंक्शन में लगातार गिरावट आ रही है। 22 मार्च को हुई जांच में उनकी क्रिएटनिन लेवल 4.6 पाया गया है। यह एक खतरनाक संकेत है, इसलिए उन्हें तत्काल हायर मेडिकल सेंटर ले जाए जाने की जरूरत है।

बीजेपी ने कहा मेडिकल रिपोर्ट घोटाला

इससे पहले लालू प्रसाद यादव को एम्स ले लौटाए जाने पर बीजेपी ने आरजेडी पर निशाना साधा है। बीजेपी ने लालू को वापस लौटाए जाने को मेडिकल रिपोर्ट घोटाला करार दिया है। बीजेपी ने कहा है कि लालू ने मेडिकल रिपोर्ट घोटाला करते हुए रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज से अपने स्वास्थ्य को लेकर फर्जी रिपोर्ट बनवाई और इलाज कराने के नाम पर दिल्ली चले गए।

बीजेपी विधायक संजय सराओगी ने कहा, ‘लालू प्रसाद ने जो किया है वह मेडिकल रिपोर्ट घोटाला है और वह ऐसा अक्सर करते हैं। जब भी उन्हें जेल भेजा जाता है तो वह बहाना करके अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं।’

रिम्स पर होनी चाहिए कार्रवाई वहीं दूसरी तरफ से बीजेपी के एक और विधायक पवन जायसवाल ने कहा कि लालू को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली एम्स भेजने की अनुशंसा करने वाली रिम्स, रांची के उस मेडिकल बोर्ड के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। जिन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा कि लालू का क्रिएटनीन लेवल काफी बढ़ गया है और उनकी हालत काफी गंभीर है और बेहतर इलाज के लिए उन्हें रांची से दिल्ली भेजा जाना चाहिए। पवन जयसवाल ने कहा कि इस पूरे मामले में कहीं न कहीं रिम्स और झारखंड सरकार की मिलीभगत है।

आरजेडी कार्यकर्ताओं में रोष

वहीं, लालू प्रसाद यादव को दिल्ली से वापस रांची भेजने की खबर के बाद आरजेडी नेताओं और कार्यकर्ताओं में रोष देखने को मिला था। पार्टी के विधायक मुकेश रोशन ने कहा था कि केंद्र सरकार के दवाब में आकर एम्स ने लालू यादव को लौटाया है। मुकेश रोशन ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि केंद्र सरकार लालू को मारने की साजिश रच रही है और वह नहीं चाहती है कि लालू को बेहतर इलाज मिले।