पटना: वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) का कार्यकाल जुलाई 2022 में समाप्त हो रहा है। इसके चलते अगले राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है। इसी बीच बिहार के सीएम नीतीश कुमार के राष्ट्रपति प्रत्याशी (Nitish Kumar Presidential candidate) बनने को लेकर चर्चा काफी तेज हो गयी है। कहा जा रहा है कि भाजपा विरोधी कई राजनीतिक पार्टियां अभी से ही इस काम में जुट गयी हैं। तर्क दिया जा रहा है कि कांग्रेस को छोड़कर अन्य कई विपक्षी पार्टियों की रणनीति यह है कि बीजेपी के खिलाफ ऐसा मजबूत उम्मीदवार लाया जाये कि कांग्रेस भी उसे समर्थन देने को मजबूर हो जाए। इन चर्चाओं के बीच नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) ने सभी अटकलों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने पटना में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इन बातों में कोई दम नहीं है। इन सब बातों का हमारे दिमाग में कोई आइडिया नहीं है।

उधर, जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार (JDU Chief Spokesperson Neeraj Kumar) का कहना है कि कैसे नीतीश कुमार के नाम की चर्चा हो रही है, मुझे नहीं पता है। कैसे इन खबरों को स्पेस दिया जा रहा है, इसकी भी मुझे कोई जानकारी नहीं है। जदयू प्रवक्ता ने कहा कि ना तो अभी राष्ट्रपति चुनाव के लिए सूचना जारी हुई है और ना ही चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों की कोई बैठक हुई है। ऐसे में इन सवालों का कोई मतलब नहीं है। नीरज कुमार ने कहा कि जनता ने 2025 तक मैंडेट दिया है। नीतीश कुमार बिहारी प्राइड के लिए जाने जाते हैं। ऐसे में शिगूफा कहां से उठ गया है?

यह पूछे जाने पर कि क्या नीतीश कुमार के खिलाफ कोई साजिश हो रही है, इस पर नीरज ने कहा कि हम लोगों के खिलाफ हर तरह का प्रयोग निष्फल हो चुका है। ना मंत्र ना जाप चलेगा। केवल जनता का जाप है। इसलिए जनता के साथ खड़े हैं। नीतीश कुमार के दिल्ली दौरे को लेकर कई तरह की चर्चा है। नीरज कुमार ने कहा कि दिल्ली तो वे शादी समारोह में भाग लेने गए थे। मुख्यमंत्री ने खुद प्रशांत किशोर से मुलाकात को लेकर भी बात कही है।

यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राष्ट्रपति पद के योग्य उम्मीदवार हैं, नीरज ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने काम के बदौलत ही देश-दुनिया में कई अवार्ड जीते हैं। अभी राष्ट्रपति के चुनाव की कोई चर्चा ही नहीं है। इसलिए इसी तरह के भ्रम जाल में रहने की जरूरत नहीं है।

बता दें कि गत शुक्रवार को नई दिल्ली में चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की (Prashant Kishor met Nitish Kumar) थी। जिसके बाद इस बात को लेकर अटकलें लगने लगीं कि ‘पीके’ की जेडीयू में वापसी हो सकती है। हालांकि मुख्यमंत्री ने ऐसी किसी संभावना से फिलहाल इनकार कर दिया है। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मुलाकात का कोई खास मतलब नहीं है। उनसे मेरा कोई नया रिश्ता नहीं है। काफी पहले से उनके साथ संबंध रहा है।