पटना: हम प्रमुख जीतनराम मांझी (HAM chief Jitan Ram Manjhi) ने अपने बेटे को अपनी राजनीतिक विरासत सौंपने का फैसला किया है। उनकी जगह उनके बेटे और बिहार सरकार में मंत्री संतोष कुमार सुमन हम के नए अध्यक्ष होंगे (Santosh Kumar Suman Will be New President of HAM)।आज पटना में भीमराम अंबेडकर जयंती पर आयोजित गरीब चेतना सम्मेलन में मांझी ने अध्यक्ष पद छोड़ने की घोषणा की। उन्होंने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कहा कि अब संतोष पार्टी की कमान संभालेंगे।

जीतनराम मांझी ने अपने बेटे को सौंपी विरासत:

जीतनराम मांझी ने कहा कि हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (Hindustani Awam Morcha) के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष उनके बेटे और मंत्री संतोष कुमार मांझी (Minister Santosh Kumar Manjhi) होंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि हम पार्टी को छोड़कर जा रहे हैं। जब तक कि मेरे शरीर में प्राण रहेगा, तब तक हम पार्टी के लिए काम करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हम संरक्षक के रूप में पार्टी के साथ जुड़े रहेंगे।

6 वर्ष पहले हम की स्थापना:

आपको बता दें कि 8 मई 2015 (6 वर्ष पहले) जीतनराम मांझी ने नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू से अलग होकर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा का गठन किया था।फिलहाल बिहार विधानसभा में उनकी पार्टी के 4 विधायक हैं, जबकि विधान परिषद में एक एमएलसी (संतोष सुमन) हैं। हालांकि लोकसभा और राज्यसभा में उनकी कोई नुमाइंदगी नहीं है. उनके बेटे बिहार सरकार में मंत्री हैं। इससे पहले वे पार्टी में कार्यकारी अध्यक्ष के तौर पर काम कर रहे थे।