बिहार में जब से नीतीश कुमार ने महागठबंधन के साथ सरकार बनाई है, तमाम राजनीतिक गतिविधियां फुल स्पीड से पूरी होती दिख रही हैं. शपथ ग्रहण समारोह के बाद मंत्रिमंडल विस्तार का काम भी संपन्न हो चुका है. अब नए मंत्रियों के लिए आलीशान बंगले भी बनकर तैयार हो गए हैं.  बहुत जल्द इन बंगलों को सरकार मंत्रियों को हैंडओवर करने वाली है. 

बंगले में क्या खासियत?

बिहार की राजधानी पटना के गर्दनीबाग में बना 20 बंगलों का ये बंच अपने मंत्रियों का इंतजार कर रहा है. बिहार में वैसे भी बंगले को लेकर विवाद नई बात नहीं है. लेकिन इस बार विवाद नहीं बल्कि शपथ ले चुके मंत्रियों को नया बंगला ही मिलेगा. माना जा रहा है कि अगले महीने तक काम पूरा कर लिया जाएगा और अब महागठबंधन सरकार में बने नए नए मंत्री इन्ही बंगलो में रहेंगे. लगभग 60 करोड़ की लागत से बन रहे मंत्रियों के आवास को काफी हाईटेक तरीके से तैयार किया गया है. भूकंप रोधी ,सोलर सिस्टम , एडवांस सीवरेज सिस्टम सहित कई खूबियां देखने को मिल जाएंगी. एक कैंपस में सभी मंत्रियों के रहने के लिए बंगले का निर्माण कराया गया है जिसमें मंत्रियों के सुख सुविधा के लिए क्लब, कम्युनिटी हॉल, उनके सुरक्षाकर्मियों के रहने के लिए अलग से बैरक, कैंटीन और अन्य सुविधाएं भी दी गई हैं.

सुरक्षाकर्मियों के लिए अलग इंतजाम

फिलहाल 20 बंगलों का निर्माण कराया गया है. और सभी बंगले विभाग के नाम से अलॉट होंगे. इन बंगलो में कुल 8 कमरे हैं और अलग से सर्वेंट और सुरक्षाकर्मियों के लिए डुप्लेक्स भवन बनाया गया है. जिस विभाग के जो मंत्री हैं वह उस बंगले में रहेंगे . हालांकि देखना यह भी होगा कि मंत्री इन नए बंगलो में रहते या नहीं. क्योंकि सभी को चाहत है कि पूर्व से जो मंत्रियों के लिए बड़े और आलीशान बंगले बने हैं वही बंगला उन्हें दिया जाए.