पटना. भीषण गर्मी और हीट वेव को देखते हुए जहां ठंडे पेय पदार्थों की बिक्री तेज हो गई है, वहीं अब राजधानी में जगह-जगह लोग नीरा का आनंद उठा सकेंगे। जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने नीरा का उत्पादन और बिक्री बढ़ाने का निर्देश दिया है। डीएम ने कहा है कि नीरा के जरिए हजारों परिवारों को जीविकोपार्जन से जोड़ा जाएगा। इसीलिए इसके उत्पादन और बिक्री बढ़ाने का हर संभव प्रयास होगा। डीएम ने नीरा उत्पादन और विपणन की प्रगति को लेकर समीक्षा भी की। साथ ही जीविका के जिला परियोजना प्रबंधक से जानकारी के आधार पर कहा है कि पटना में 8 स्थायी काउंटर के द्वारा नीरा की बिक्री की जा रही है, लेकिन अब शहर में कम-से-कम 20 स्थानों पर और काउंटर खोले जाएंगे। इसके लिये आदेश जारी कर दिया गया है।

बता दें कि अभी पटना के अलग-अलग प्रखंडों में कुल 50 नीरा काउंटर पर नीरा का विक्रय किया जा रहा है जिसमें कुल 862 सक्रिय टैपर्स को जीविका के सहयोग से मद्य निषेध विभाग, पटना के द्वारा लाइसेंस निर्गत किया जा चुका है। पटना जिला में कुल 2,10,000 लीटर नीरा बिक्री का लक्ष्य रखा गया है। अभी प्रतिदिन लगभग 1,000 लीटर बिक्री हो रही है। डीएम डॉ सिंह ने 2,000 से 2,500 लीटर प्रतिदिन बिक्री का लक्ष्य प्राप्त करने का निर्देश दिया है।

डीएम ने सगुना मोड़ पर नीरा काउंटर का उद्घाटन किया। साथ ही इसके बाद उन्होंने चिड़ियाखाना के गेट नंबर दो पर अवस्थित नीरा काउंटर का निरीक्षण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आम लोगों के लिए नीरा एक स्वास्थ्यवर्धक प्राकृतिक पेय है, ऐसे में इसका उपयोग सभी उम्र के लोग कर सकते हैं।