यूनिसेफ के एक कार्यक्रम में ‘मुफ्त जींस, जूते और कंडोम मांगने’ जैसा विवादित बयान देने वाली महिला आईएएस अधिकारी हरजोत कौर बुमराह के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है. इस संबंध में राष्ट्रीय महिला आयोग ने बुमराह को एक नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. नोटिस को लेकर जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल किया गया, तो उन्होंने अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई के संकेत दिए हैं. 

इस बीच, आईएएस अधिकारी हरजोत कौर बुमराह ने एक बयान जारी कर अपने विवादित बयान पर खेद जताया है. यूनिसेफ की एक वर्कशॉप में उनके बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था.

सीएम ने दिए कार्रवाई के संकेत

हरजोत कौर बुमराह को लेकर जब सीएम नीतीश कुमार से सवाल किया गया, तब उन्होंने कहा- मामले की जांच के आदेश दिए जा चुके हैं. मुझे इस बारे में अखबारों से पता चला. हम राज्य में महिलाओं को सभी सहायता उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं. अगर आईएएस अधिकारी का व्यवहार उस भावना के खिलाफ पाया जाता है, तो कार्रवाई होगी.

हरजोत कौर बुमराह राज्य सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव रैंक की अधिकारी हैं. इसी के साथ वो राज्य महिला और बाल विकास आयोग की प्रमुख भी हैं. यूनिसेफ के साथ मिलकर एक राज्य स्तरीय वर्कशॉप आयोजित की गई थी. इसमें स्कूल की छात्राओं ने अनुरोध किया था कि जिस तरह से सरकार लड़कियो को मुफ्त साइकिल और स्कूल यूनिफॉर्म  देती है, उसी तरह फ्री सैनिटरी नैपकिन देने पर भी विचार किया जाना चाहिए.

छात्रा ने खोली सरकारी दावों की पोल

हरजोत कौर बुमराह से सवाल पूछने वाली लड़की ने आजतक से बातचीत में बताया कि जब वो 8वीं कक्षा में थी, तब उसे एक बार सेनेटरी पैड मिला था, लेकिन उसके बाद नहीं मिला. बातचीत के दौरान उसने छात्राओं की समस्या पर खुलकर बात की और तमाम सरकारी दावों की पोल भी खोली. छात्रा ने कहा- मेरा सवाल गलत नहीं था, मैं सैनिटरी पैड खरीद सकती हूं. लेकिन स्लम और बस्तियों में कई ऐसी लड़कियां हैं जो इसे नहीं खरीद सकतीं. मैंने सिर्फ मेरे लिए नहीं, बल्कि सारी लड़कियों के लिए सवाल किया था. हम अपनी चिंता से उनको वाकिफ कराना चाहते थे.

वायरल वीडियो में अधिकारी ने कही ये बात

वायरल वीडियो में हरजोत कौर बुमराह को कहते हुए सुना जा सकता है, ‘मुफ्त सामान देने की कोई सीमा नहीं हो सकती. सरकार पहले ही बहुत कुछ दे रही है. आज आप मुफ्त सैनिटरी नैपकिन चाहते हैं, कल को आप जींच और जूते की मांग करेंगे. फिर जब परिवार नियोजन की बात आएगी, तब आप फ्री कंडोम भी मांग सकती हैं.’ हालांकि आजतक स्वतंत्र रूप से इस वीडियो की पुष्टी नहीं करता है.

आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित करना चाहती थी’

राष्ट्रीय महिला आयोग ने हरजोत कौर बुमराह के बयान को ‘असंवेदनशील’ व्यवहार मानते हुए उनसे स्पष्टीकरण मांगा है. हालांकि हरजोत कौर बुमराह ने अपने बयान पर खेद जताया है. उन्होंने कहा है कि वो अपनी बात से लड़कियों की किसी तरह से आलोचना नहीं करना चाहती थीं, बल्कि उन्हें आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित करना चाहती थीं.