बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को पत्र लिखकर लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जन्मभूमि सिताब दियारा के उत्तर प्रदेश क्षेत्र के लंबित कार्यों को शीघ्र पूर्ण किये जाने का अनुरोध किया है.

पत्र लिखकर किया आग्रह

सीएम नीतीश कुमार ने पत्र में लिखा है कि जेपी की जन्मभूमि सिताब दियारा ग्राम, जो बिहार एवं उत्तर प्रदेश की सीमा के पास गंगा और घाघरा नदी के संगम पर बिहार के सारण जिला में है, वहां बारिश के दिनों में गांव की भूमि के कटाव का खतरा बना रहता था और बीते सालों में कई बार वहां कटाव की स्थिति भी उत्पन्न हुई थी.

बाढ़ से सुरक्षा के लिए काम पूरा करना जरूरी

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक, नीतीश कुमार ने पत्र में यह भी लिखा है कि ग्राम सिताब दियारा की बाढ़ से सुरक्षा के लिए घाघरा नदी की ओर से एक रिंग बांध (लगभग 7.5 किलोमीटर की लंबाई में) बनाए जाने की आवश्यकता महसूस की गई है. साल 2017-18 में बिहार भू-भाग में लगभग 4 किमी और उत्तर प्रदेश के भू-भाग में लगभग 3.5 किमी की लंबाई में रिंग बांध तथा अन्य कटाव निरोधक कार्य प्रारंभ किया गया.

बिहार क्षेत्र में काम पूरा

साल 2017-18 में बिहार सरकार द्वारा रिंग बांध और अन्य बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यो को पूर्ण कर लिया गया है, लेकिन उत्तर प्रदेश क्षेत्र में कार्य लंबित है. नीतीश कुमार ने अपने पत्र में कहा है कि हाजीपुर-गाजीपुर राष्ट्रीय उच्च पथ संख्या 31 से सिताब दियारा तक जाने वाली बीएसटी मुख्य बांध की लंबाई लगभग 6.50 किमी है, जिसमें लगभग 2 से 3 किमी की लंबाई में रास्ता बनाने का काम यूपी की सीमा में अधूरा है, जिसके कारण इस क्षेत्र में आवागमन में भी समस्या उत्पन्न होती है.

यूपी में अधूरा है काम

सिताब दियारा रिंग बांध (बिहार प्रभाग) के अपस्ट्रीम (लंबाई लगभग 1175 मीटर) और डाउनस्ट्रीम (लंबाई लगभग 2300 मीटर) को बीएसटी मुख्य बांध (बलिया उत्तर प्रदेश) से जोड़ने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कार्रवाई प्रारंभ की गई थी, लेकिन वर्तमान में कार्य अपूर्ण है जिसे शीघ्र पूर्ण किया जाना आवश्यक है. इसके अपूर्ण रहने से वहां कटाव एवं बाढ़ का खतरा बना रहता है.